एक शिक्षाप्रद कहानी - आपने हमे भी इनवाईट किया है !!


एक शिक्षाप्रद कहानी - आपने हमे भी इनवाईट किया है !! ट्यूशन का टाइम हो गया था और इंटीग्रेशन करते करते बहुत तेज भूख भी लग रही थी !! सर को प्रणाम करके सबको राम राम करके ज्यों ही घर की तरफ बढ़ा ! बारात के आवाज ने कानों में दस्तक दे दी !! साथ में दोस्त अजय ने बारात में शामिल होकर बारात घर में खाने को चलने के लिए कहा !! कायदे से तो फ्री में किसीके यहाँ खाना गलत था पर भूख का दबाव और उसके इस तर्क पर मेरा मुंह बंद हो गया कि अनाज को हम बर्बाद करने से बचाने के लिए ही जा रहे है ! ये पूण्य का काम है इसके लिए किसीकी परमिशन की क्या जरूरत ?? मुझे उसकी ये बात सुनकर चलना पड़ा !!
अजय बहुत ही बड़ा भोजन प्रेमी था ! एक हाथ से एक बार में वो दो पुड़िया लपेट कर खाता था !! क्योंकि वजन और स्वास्थ्य उसका अच्छा खासा था तो वो हर डिश को बहुत अच्छे से खा पाने में सक्षम था और मै बस तंदूरी रोटी खाते हुए उसे हंसते हुए देख रहा था कि वाकई बहुत सारा भोजन वो बचा भी रहा है और पचा भी रहा है !! शादी में वैसे निशुल्क में भोजन करने वाले आमंत्रित होते ही है पर ये पहली बार था कि किसीने उसके खाने पर गौर किया और उससे ये पूछ लिया कि किसकी शादी में आये हो ? किसने इनवाईट किया है ?? ये देखकर मै घबरा गया और मन में डरकर भागने का एक विचार घर कर रहा था पर भालू वाली कहानी ने मुझे हिम्मत दी जिसमे एक दोस्त डरकर पेड़ पर चढ़ जाता है ! मै डरपोक मित्र का पात्र न बन जाऊं इसका डर ज्यादा हावी था मुझपर सो जल्द ही इधर उधर नजर दौड़ाई तो कुछ परिचित मिल गये और मैं उनके साथ अंकल को नमस्ते किया और बताया कि हम सब दोस्त है अंकल जी !! ये सुनते ही अंकल को अपने प्रश्नों पर बड़ी ही ग्लानि हुयी !! पर अंकल ने पूछ ही लिया कि बेटा बैग रखकर अच्छे से आते !! शादी तो रात भर है इतनी भी क्या जल्दी थी !! वो बस अनजाने लोग आकर खाना बर्बाद कर देते है इसीलिए ये सब सवाल किया !! बेटा बुरा मत मानना कहकर अंकल चले गये और हमें फिर शर्म के मारे एक कोर और नही खाया गया पर हम और एक घंटे घुमे ये दिखाने के लिए कि आपने हमे भी इनवाईट किया है !!
शिक्षा - शादी में निमंत्रण न दिया गया हो तो नही ही जाना चाहिए नही तो शर्मिंदगी और अपमान दोनों झेलना पड़ सकता है !

No comments

Powered by Blogger.