ज्ञानसागर ब्लॉग में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520

Header Ads



एक सामाजिक प्रश्न - पूजा अथवा भक्ति किसकी करें ?? | Social Concern | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

सनातन धर्म में अनेकों देवी-देवता हैं । इसलिए प्रश्न उठता है कि किसकी पूजा अथवा भक्ति की जाए । इस सम्बन्ध में हम एक उदाहरण प्रस्तुत करेंगे । बात करते है श्रीराम भक्त गोस्वामी तुलसीदास जी की। गोस्वामी तुलसीदास जी ने सनातन धर्म के मर्म को भलीभांति समझकर लोगों के समक्ष अपनी रचनाओं के माध्यम से रखा । इन्होंने जो धर्म-आदर्श हमारे सामने रखा वह अवश्य ही अनुकरणीय है । वही सनातन धर्म का मूल है ! प्राण है !!
सनातन धर्म के जो प्रमुख देवता हैं । उनमें से किसी एक के बारे में आप जानते हों ! जो आपके मन में बसते हों ! जो आपको अच्छे लगते हों । उन्हें ही अपना इष्ट बनाकर पूजना चाहिए ! उनकी ही भक्ति करनी चाहिए । उन्हीं से अपने मन की बात कहनी चाहिए । उन्हीं से यदि कुछ माँगना हों तो माँगना चाहिए ।
सनातन धर्म के अनुसार या यूँ कहें कि गोस्वामी तुलसीदास जी के अनुसार एक सच्चा भक्त एक धर्म परायण पतिव्रता स्त्री की तरह होना चाहिए । जैसे एक पतिव्रता स्त्री अपने पति के प्रति सम्पूर्ण समपर्ण का भाव रखती है । और साथ ही अपने सास-ससुर, देवर आदि अन्य सगे सम्बन्धियों का भी उचित सम्मान करती है । किसी का निरादर अथवा अपमान नहीं करती । लेकिन पूर्ण समर्पण सिर्फ पति के प्रति ही रखती है । ठीक इसी तरह किसी एक देवता के प्रति पूर्ण समर्पण का भाव रखते हुए अन्य देवी-देवताओं का भी उचित आदर करना चाहिए ।
जैसे यदि कोई भगवान श्रीराम का भक्त है । तो उसे भगवान शिव का भी पूजन करना चाहिए । ऐसा नहीं होना चाहिए कि हमें शिव जी से कोई मतलब नहीं है । क्योंकि हमारे तो आराध्य श्रीरामजी हैं । बिना शिव भक्ति के श्रीराम भक्ति नहीं मिलती । कहने का मतलब ऐसा नहीं होना चाहिए कि कहीं शिवालय हो तो वहाँ कभी न जाएँ । महाशिवरात्रि को भी शंकर जी को एक लोटा जल न चढाएं । ऐसा भाव बिल्कुल गलत है ।
गोस्वामी तुलसीदास जी पूर्ण समर्पण केवल भगवान श्रीराम के प्रति ही रखते थे । लेकिन शिवजी, गणेश, हनुमानजी, दुर्गाजी, सूर्यदेव आदि सभी का पूजन करते थे । पूजा तो सबकी करते थे । लेकिन सभी से भगवान श्रीराम के चरणों में निर्मल भक्ति का ही वरदान माँगते थे । जैसे गणेश जी की वन्दना करते हुए लिखा है-“माँगत तुलसीदास कर जोरे । बसहिं राम सिय मानस मोरे ।।“ इसी तरह भगवान शंकरजी से माँगते हैं कि-“तुलसिदास जाचक गुण गावै । विमल भगति रघुपति की पावै ।“
कई संतो का भी मत है कि व्यभिचारिणी भक्ति ठीक नहीं होती । व्यभिचारिणी स्त्री को भी कोई ठीक नहीं कहता । कहने का मतलब पूर्ण समर्पण एक के प्रति रखो । कुछ माँगना हो तो उसी से मांगो । इधर-उधर मत भटको ।
लेकिन किसी एक देवता को पूजना व अन्य का निरादर करना ठीक नहीं है । सबका आदर करें । लेकिन इष्ट किसी एक को ही मानकर उसकी ही पूजा व भक्ति करें । यही संदेश गोस्वामी तुलसीदासजी के जीवन से हमें मिलता है । यही सही भी है.....

 लेख पसंद आये तो शेयर जरुर करे 

सारांश सागर

सारांश सागर द्वारा प्रकाशित किया गया

अनुभव को सारांश में बताकर स्वयं प्रेरित होकर सबको प्रेरित करना चाहता हूँ !                


No comments

Powered by Blogger.