ज्ञानसागर ब्लॉग में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520

Header Ads



एक सुंदर कविता - कमबख्त सर्दी | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

एक सुंदर कविता - कमबख्त सर्दी | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

भावनाओं को व्यक्त करने का काफी मन है
पर ये कमबख्त सर्दी भी क्या कम है ???
रोज सोचता हूँ लिखने का ऐसा होता मेरा मन है
पर क्या करूँ काम भी कहाँ होता खत्म है ???
अहसासों और अनुभवो को सारांश में बताने का काफी मन है
पर कभी कभी पढ़ने वाले ऑनलाइन जन भी हो जाते कम है !!
ठंड से बुरा होता हाल ये कहता मेरा तन है !!
पर कमबख्त सर्दी सं सं है !!!
पर कमबख्त सर्दी हर कण है !!!



सारांश सागर

सारांश सागर द्वारा प्रकाशित किया गया

अनुभव को सारांश में बताकर स्वयं प्रेरित होकर सबको प्रेरित करना चाहता हूँ !                


No comments

Powered by Blogger.