ज्ञानसागर परिवार में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520


एक प्रेरणादायक कहानी - सब कुछ कॉपी-पेस्ट हो सकता है लेकिन चरित्र और व्यवहार नही | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

एक प्रेरणादायक कहानी - सब कुछ कॉपी-पेस्ट हो सकता है लेकिन चरित्र और व्यवहार नही

अब्दुल ने २ ही महीने पहले बारवीं पास की थी लेकिन कम अंक प्राप्त होने के कारण उसका दाखिला सरकारी कॉलेज में हो न सका !! क्योंकि गया जो कि बिहार का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है वहां कॉलेज में कम सीट होने के कारण अधिक अंक प्राप्त विद्यार्थियों को ज्यादा प्राथमिकता दे दी जाती और ऐसे में कम अंक और सामान्य जाति ( जेनरल कास्ट ) के लोगो को काफी दिक्कत होती ! परिणाम आने के बाद कॉलेज में दाखिला हो नही पाया तो इसीलिए माता-पिता ने शहर जाकर काम करने की राय दी ! वही इसी बीच अब्दुल को पता चला कि उसका सहपाठी मित्र अजय आया हुआ था, जो तेज और मेघावी होने के कारण एक साल उससे सीनियर था ! अजय अब तक अच्छे से स्थापित होने के दिशा में था जो बैंगलोर में अपना खुद की आई.टी कम्पनी चला रहा था !! बातचीत के दौरान अजय ने अब्दुल की सारी बातें सुनी और फिर उसको अपने साथ बैंगलोर ले गया जहाँ उसे कंटेंट राइटिंग का काम सौंपा गया !! धीरे धीरे अब्दुल इसमें बढ़ चढकर भाग लेने लगा लेकिन शॉर्टकट कमाई करने के चक्कर में अब्दुल ने अजय के कम्पनी के नियम व् शर्तो को ताक पर रख दिया और अनीति से कमाने की दिशा में निकल गया  !! इस काम में उसने कम्पनी में और लोगों को भी शामिल कर लिया ! कम्पनी में काम करते करते उसने वेबसाइट बनाना और सोशल मीडिया को अच्छे से समझना शुरू कर दिया और उसने ये पाया कि सोशल मीडिया में संवेदनशील मुद्दों पर अगर कोई आर्टिकल शेयर करे तो उसे ज्यादा पढ़े-देखे जाते है य संवेदनशील तस्वीर,वीडियो को ज्यादा पसंद किये जाते है  !! ये सब अनुभव करके उसने राम मंदिर बनेगा य बाबरी मस्जिद,गौ माता राष्ट्रमाता ,patym से फ्री पैसे क्रेडिट करे आदि आदि  जैसे तमाम मुद्दों पर आधारित लिंक,वेबसाइट बनाकर खुब पैसे कमायें ! वेबसाइट में अश्लील एड्स लगाकर भी खूब पैसे कमायें !

 एक दिन किसी जागरूक व्यक्ति ने उस लिंक के डोमेन owner का पता करके उस नम्बर पर फोन कर दिया जो कि अजय की कंपनी का नंबर था ! डोमेन तो अब्दुल के नाम से रजिस्टर था पर कम्पनी के नियम के अनुसार कोई भी काम य आदान-प्रदान कम्पनी के नाम य तो नंबर पर ही होता !  कम्पनी के सारे कॉल अजय शाम को जाने से पहले जरुर सुनता था !! इस बात की भनक न अब्दुल को थी न उसके २-३ मददगार कर्मचारी को पर कम्पनी की महिला कर्मचारी जो फोन सेवा का कार्यभार सम्भालती थी उसने इस बात की पुष्टि के लिए उस फोन कॉल पर सूचना देने वाले व्यक्ति के लिंक्स का जब पता लगाया और उन बातो की पुष्टि की तब महिला कर्मचारी ने फ़ौरन अजय सर को ये बात बताई !  अजय बहुत समझदार व्यक्ति था और ये जानता था कि अकेले अब्दुल इस काम के पीछे नही होगा इसीलिए उसने अकेले अब्दुल को ही रिजाइन लैटर देने का फैसला किया ! कल सुबह जब अब्दुल को अजय ने रिजाइन लैटर सबके सामने दिया तो सबके होश उड़ गये थे ! उसके मददगार २-३ मित्र कर्मचारी के हाव-भाव भी अचानक से ख़ुशी से मातम में बदल गये ! सबको अपने नौकरी की घंटी सुनाई देनी शुरू हो गयी ! अजय ने सबके सामने कहा कि अगर ये बता दो कि कौन कौन इसमें तुम्हारे इस काम में शामिल था तो तुम्हे नौकरी से नही निकालूँगा !! ज्यों ही अब्दुल नाम बताने के लिए बोलने वाला था कि तपाक से उन सबने एक स्वर में ये कहा कि सर इस अब्दुल ने हमे लालच दिया था !! हम ये सब नही करना चाहते थे न हमने किया बस हमने इसे सीखाया था कैसे क्या किया जाता है पर हमे इसके इस पैसे से कोई फायदा नही हुआ है न कोई रूपये अभी तक मिले ! लालच में आकर हमने खा-मखा मुसीबत को न्योता दे दिया लेकिन इसे हमने शुरू में मना भी किया था ! अजय सारी बात समझ गया और तीनो कर्मचारी और अब्दुल को अपने केबिन में उसने  बुलाया ! अजय ने बताया कि अनीति से किया गया कोई काम क्षणिक सुख तो जरुर दे सकता है पर स्थाई सुख कभी नही दे सकता !! गलत चाहे मै करूँ य कोई सगा उसका विरोध हमेशा करे ! अपने व्यवहार,चरित्र और स्वाभिमान की रक्षा विषम से विषम परिस्थिति में करना चाहिए चाहे लाख लोभ आपको मिले ! अब अजय ने कहा कि आप सबके इस गलती के लिए क्या सजा दी जाये ?? सबने हाथ जोड़ने शुरू कर दिये और अब्दुल फूट फूट कर रोने लगा ! उसके आँख में शर्म व् ग्लानि के आंसू थे !! अजय ने फिर सबसे एक नियम व् शर्त पढ़ी और  सबके हस्ताक्षर करवाए जिसमे लिखा था इस कंपनी में कार्य करते हुए नियम के विरुद्ध य किसी भी प्रकार की शरारत य गलत व्यवहार करने पर बिना नोटिस आपको तत्काल निलम्बित कर दिया जायेगा !
अब अंत में अजय ने अब्दुल व् अन्य तीन कर्मचारी को एक नसीहत दी कि कंटेंट कॉपी पेस्ट हो सकते है ! नोट्स कॉपी पेस्ट हो सकता है यहाँ तक की सब कुछ कॉपी पेस्ट हो सकता है लेकिन चरित्र और व्यवहार नही !!
इसी सीख को जीवन भर याद रखे सभी ताकि भविष्य में कभी भी लालच में आकर कोई अनीति से लाभ कमाने की चेष्टा न करे !!
इस कहानी का विचार सुझाने के लिए पवन शर्मा जी का हार्दिक स्वागत !

ऐसे ही अन्य लेख अपने Gmail अकाउंट में प्राप्त करने के लिए अभी Signup करे और पाये हमारे ताजा लेख सबसे पहले !!

email updates


No comments

Powered by Blogger.