ज्ञानसागर ब्लॉग में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520 ! अपने व्यापार य सर्विस की वेबसाइट बनवाने हेतु संपर्क करे !

Header Ads



एक भावनापूर्ण कविता - प्यार है य दोस्ती ये बता न सके | Gyansagar ( ज्ञानसागर )


  एक भावनापूर्ण कविता - प्यार है य दोस्ती ये बता न सके | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

प्रस्तुत कविता रौशनी कुमारी द्वारा रचित है जो ( खोड़ा ) गाजियाबाद क्षेत्र की निवासी है व् राजकीय डिग्री कॉलेज की छात्रा व् सामाजिक कार्यकर्ता एवं चैलेंजर्स ग्रुप ( पंजीकृत ) की सदस्य है  !
________________________________________________________

प्यार पाना तो सीखा
पर जता ना सके !
जिंदगी से हँसना तो सीखा
पर किसी को हँसा ना सके !!
                       
उम्र भर का साथ 
हम यूँ ही गवां न सके !
ख़ुशी दिखाना तो सीखा 
पर उदासी छिपा ना सके !!

दोस्त बनाना तो सीखा
पर दोस्ती निभा न सके !
वो हमे भूल गये ! 
हम उन्हें भुला न सके !!

वो गये हमे छोड़ रास्ते में
हम उन्हें पलट कर बुला ना सके !
उनकी ख़ुशी की खातिर
हम खुद को रुला न सके !!

हम यूँ ही दोस्ती निभाते रहे पर
कम्बखत !
दिल ऐ राज दोस्ती का हम उन्हें बता ना सके !!

सारांश सागर

रौशनी कुमारी द्वारा लिखा गया

नमस्कार पाठकों ! मै रौशनी कुमारी नॉएडा की निवासी हूँ। मुझे कवितायें लिखना बहुत पसंद है क्योंकि इनके माध्यम से मैं अपने भाव और विचारों को आसानी से आप सभी तक पहुंचा सकती हूँ             



No comments

Powered by Blogger.