ज्ञानसागर परिवार में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520


Shree Annpurna Chalisa In Hindi | श्री अन्नपूर्णा चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

Shree Annpurna Chalisa In Hindi | श्री अन्नपूर्णा चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )


॥ दोहा ॥

 विश्वेश्वर - पदपदम की रज - निज शीश - लगाय ।
 अन्नपूर्णे ! तव सुयश बरनौं कवि - मतिलाय

 ॥ चौपाई ॥ 

नित्य आनंद करिणी माता , वर - अरु अभय भाव प्रख्याता ।
 जय ! सौंदर्य सिंधु जग - जननी , अखिल पाप हर भव - भय हरनी । 
श्वेत बदन पर श्वेत बसन पुनि , संतन तुव पद सेवत ऋषिमुनि ।
 काशी पुराधीश्वरी माता , माहेश्वरी सकल जग - त्राता । 
वृषभारूढ़ नाम रुद्राणी , विश्व विहारिणि जय ! कल्याणी ।
 पदिदेवता सुतीत शिरोमनि , पदवी प्राप्त कीह्न गिरि - नंदिनी । । 
पति - विछोह दुःख सहि नहि पावा , योग अग्नि तब बदन जरावा ।

देह तजत शिव - चरण सनेहू , राखेहु जाते हिमगिरी - गेहू ।
 प्रकटी गिरिजा नाम धरायो , अति आनंद भवन मँह छायो ।
 नारद ने तब तोहिं भरमायहु , ब्याह करन हित पाठ पढ़ायहु ।
 ब्रह्मा - वरुण - कुबेर - गनाये , देवराज आदिक कहि गाये । 
सब देवन को सुजस बखानी , मति पलटन की मन मंह ठानी । । 
अचल रहीं तुम प्रण पर धन्या , कीह्नी सिद्ध हिमाचल कन्या ।
 निज कौ तव नारद घबराये , तब प्रण - पूरण मंत्र पढ़ाये ।
 करन हेतु तप तोहिं उपदेशेउ , संत - बचन तुम सत्य परेखेहु ।
 गगनगिरा सुनि टरी न टारे , ब्रह्मा तब तुव पास पधारे । 
कहेउ पुत्रि वर माँगु अनूपा , देहुँ आज तुव मति अनुरूपा । 
तुम तप कीह्न अलौकिक भारी , कष्ट उठायेहु अति सुकुमारी ।
 अब संदेह छाँड़ि कछु मोसों , है सौगंध नहीं छल तोसों । ।

करत वेद विद ब्रह्मा जानहु , वचन मोर यह सांचा मानहु । । 
तजि संकोच कहहु निज इच्छा , देहौं मैं मनमानी भिक्षा । 
सुनि ब्रह्मा की मधुरी बानी , मुख सों कछु मुसुकायि भवानी ।
 बोली तुम का कहहु विधाता , तुम तो जगके स्रष्टाधाता ।
 मम कामना गुप्त नहिं तोंसों , कहवावा चाहहु का मोसों । । 
इज्ञ यज्ञ महँ मरती बारा , शंभुनाथ पुनि होहिं हमारा । । 
सो अब मिलहिं मोहिं मनभाय , कहि तथास्तु विधि धाम सिधाये ।
 तब गिरिजा शंकर तव भयऊ , फल कामना संशय गयऊ । । 
चन्द्रकोटि रवि कोटि प्रकाशा , तब आनन महँ करत निवासा ।
 माला पुस्तक अंकुश सोहै , कर मंह अपर पाश मन मोहे । 
अन्नपूर्णे ! सदपूर्णे , अज - अनवद्य अनंत अपूर्णे । । 
कृपा सगरी क्षेमंकरी माँ , भव - विभूति आनंद भरी माँ ।

कमल बिलोचन विलसित बाले , देवि कालिके ! चण्डि कराले ।
 तुम कैलास मांहि है गिरिजा , विलसी आनंद साथ सिंधुजा । ।
 स्वर्ग - महालछमी कहलायी , मर्त्य - लोक लछमी पदपायी ।
 विलसी सब मँह सर्व सरूपा , सेवत तोहिं अमर पुर - भूपा ।
 जो पढ़िहहिं यह तुव चालीसा , फल पइहहिं शुभ साखी ईसा । 
 प्रात समय जो जन मन लायो , पढिहहिं भक्ति सुरुचि अधिकायो ।
 स्त्री - कलत्र पनि मित्र - पुत्र युत , परमैश्वर्य लाभ लहि अद्भुत । 
राज विमुख को राज दिवावै , जस तेरो जन - सुजस बढ़ावै ।
 पाठ महा मुद मंगल दाता , भक्त मनोवांछित निधि पाता ।

 ॥ दोहा ॥ 

जो यह चालीसा सुभग , पढ़ि नावहिंगे माथ । 
तिनके कारज सिद्ध सब , साखी काशीनाथ । । 
___________________________________________________





ऐसे ही अन्य लेख जैसे चालीसा,शिक्षाप्रद कहानी,कविता और भक्ति व् ज्ञान के अद्भुत संगम के संग्रह को अपने Gmail अकाउंट में प्राप्त करने के लिए अभी Signup करे और पाये हमारे ताजा लेख सबसे पहले !! ध्यान रहे ! अपने ईमेल अकाउंट में वेरिफिकेशन प्रोसेस जरुर कम्पलीट कर ले , लेख पसंद आये तो शेयर व् कमेंट जरुर करे और whatsapp पर हमारे लेख प्राप्त करने के लिए नीचे क्लिक करे 


email updates



No comments

Powered by Blogger.