ज्ञानसागर परिवार में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520


Shree Bamleshwari Chalisa In Hindi | श्री बमलेश्वरी चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )


Shree Bamleshwari Chalisa In Hindi


  जय जय जय विमले महारानी , तेरी माया जग नहीं जानी । 
मस्तक रजत मुकुट हैं राजे , बाँये अखण्ड ज्योति बिराजे । । 
मंगल , शनि होत अभिषेका , आरति , पूजन भांति अनेका । 
केहरि साक्षात् रखवाला , अति मंजुल रमणीक शिवाला । 
उच्चभंग तव आसन राजे , पंचवटी सम चहुं दिश साजे ।
 चैत , क्वार में जलती ज्योति , पूरण आश भक्त की होती ।
 श्रद्धा से जो ज्योति जलाता , नशे पाप वांछित फल पाता ।
 दर्शन जो कर गये तुम्हारे , हुए मुदित पाये सुख सारे ।
 कह ली तेरी कीर्ति बखानी , तू है रिद्ध सिद्ध जग जानी । ।
 दृग से प्रेम विन्दु टपकाती , लाज भक्त की सदा बचाती । 
न पूजा न अर्चन आता , निश दिन नाम तुम्हारे गाता ।

 बस एक ध्यान तुम्हारे चरणा , होउं प्रसीद अनन्ता करुणा  । 
जो जन राठ करे इक बारा , शत अष्ट जपे इक बारा । । 
तू ही शारदा , चण्डी , काली , दुर्गा , अम्बे , जग रखवाली । 
शिवा , तुमी , पुण्या , विमला , गौरी दृक् प्रकाशिनी कमला । । 
भूतेशा सर्व तीर्थमयी हो , वर्ण रूपिणी शास्त्रमयी हो । 
जन पूजिता व शुभा भारती , गुणमध्या तव करत आरती । 
अशुभवा हो भूत धारणी , सूक्ष्मा कल्पा व नारायणी । 
कृष्या पिंगला निरालसा हो , जन प्रिया सर्व ज्ञान प्रदा हो । 
नित्या नंदा कमला रानी , सूक्ष्मा सर्व गता महारानी । 
सदा जया गुणश्रया शान्ता , कामाक्षी निर्गुणा कान्ता । 
दम्या सुजया वरूपिणी , शास्त्रा दृश्या विंध्यवासिनी ।
 तुम्ही जान्हवी देवा माता , पार्वती हो जगविख्याता । 
भूतेशा मात्रा शुभ्रा हो , इन्द्रा जेष्ठा व रौद्रा हो ।

 तुम्ही चण्डिका जया दुरन्ता , दया दात्री तुम्ही दिगन्ता । ।
दुराशया दुर्जया कराली , तुम्ही कामिनी लोक निराली । । 
दर युक्ता दर हरा वनीशा , दृष्टि गोचरा तुम्ही मनीशा ।
 सर्व अभीष्ट प्रदायनी अम्बे , दशदिक्ख्याता हो जगदम्बे । 
तुम्ही हो माता श्रुति पूजिता , दीन वत्सला देव वन्दिता ।
 दयाश्रया कर्मज्ञान प्रदा हो , दुष्कृति हरता तुम्ही सदा हो ।
 सरस्वती हो दुष्ट दाहिनी , जनप्रिया हो रोग नाशिनी ।
 असुरहरा हो तुम्ही दिगम्बा , तू ही मोह माया हो जगदम्बा । 
देवरता हो देवमान्या , अम्बुज वासिनी देवधान्या ।
 भूतात्मिका तुम्ही रूद्रानी , उमा माधवी हो ब्रम्हानी । 
गहूं मैं शरण परम गति पाऊँ , करहुं कृतार्थ जनम गुण गाऊँ ।
 नित उठ पाठ करै नर जोई , ताकर पूर्ण मनोरथ होई । । 
हर विपदा में होत सहाई , अधम जानि नहि देव भुलाई ।
 नौव दिवस तक करे उपासा , मन में रखें धैर्य विश्वासा ।
 नवरात्रि में ज्योति जलाये , श्रद्धा से जो पाठ कराये । । 
मुदित होयगी निश्चित माता , हरण करेगी तीनों तापा । 

। । दोहा । ।  

दम्या दुर्लभ रूपिणी , ज्ञान रूपा तपस्विनी । । 
निराकारा योगगम्या , नमोऽस्तुते विलासिनी । 




ऐसे ही अन्य लेख जैसे चालीसा,शिक्षाप्रद कहानी,कविता और भक्ति व् ज्ञान के अद्भुत संगम के संग्रह को अपने Gmail अकाउंट में प्राप्त करने के लिए अभी Signup करे और पाये हमारे ताजा लेख सबसे पहले !! ध्यान रहे ! अपने ईमेल अकाउंट में वेरिफिकेशन प्रोसेस जरुर कम्पलीट कर ले , लेख पसंद आये तो शेयर व् कमेंट जरुर करे और whatsapp पर हमारे लेख प्राप्त करने के लिए नीचे क्लिक करे 


email updates



No comments

Powered by Blogger.