ज्ञानसागर परिवार में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520


Shree Durga Chalisa In Hindi | श्री दुर्गा चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

Shree Durga Chalisa In Hindi | श्री दुर्गा चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )


नमो नमो दुर्गे सुख करनी ,नमो नमो अम्बे दुःख हरनी । 
निरंकार है ज्योति तुम्हारी , तिहुँ लोक फैली उजियारी ।
 शशि ललाट मुख महा विशाला , नेत्र लाल भृकुटी विकराला । 
रूप मातु को अधिक सुहावे , दरश करत जन अति सुख पावे ।
 तुम संसार शक्ति लय कीना , पालन हेतु अन्न धन दीना ।
 अन्नपूरना हुई जग पाला , तुम ही आदि सुन्दरी बाला ।
 प्रलयकाल सब नाशन हारी , तुम गौरी शिव शंकर प्यारी । ।
 शिव योगी तुम्हरे गुण गावें , ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें ।
 रूप सरस्वती को तुम धारा , दे सुबुद्धि ऋषि मुनिन उबारा ।

धरा रूप नरसिंह को अम्बा , परगट भई फाड़ कर खम्बा । 
रक्षा करि प्रहलाद बचायो , हिरणाकुश को स्वर्ग पठायो । 
लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं , श्री नारायण अंग समाहीं । ।
 क्षीरसिन्धु में करत विलासा , दया सिंधु दीजै मन आसा ।
 हिंगलाज में तुम्हीं भवानी , महिमा अमित न जात बखानी । ।
 मातंगी धूमावती माता , भुवनेश्वरी बगला सुख दाता । 
श्री भैरव तारा जग तारिणी , छिन्न भाल भव दु : ख निवारिणी । 
केहरि वाहन सोह भवानी , लांगुर वीर चलत अगवानी । 
कर में खप्पर खड़ग विराजे , जाको देख काल डर भाजे ।
 सोहे अस्त्र और त्रिशूला , जाते उठत शत्रु हिय शूला ।
 नगर कोटि में तुम्हीं विराजत , तिहुँ लोक में डंका बाजत । । 
शुम्भ निशुम्भ दानव तुम मारे , रक्तबीज शंखन संहारे ।

 महिषासुर नृप अति अभिमानी , जेहि अघ भार मही अकुलानी ।
 रूप कराल काली को धारा , सेन सहित तुम तिहि संहारा । । 
परी गाढ़ सन्तन पर जब जब , भई सहाय मातु तुम तब - तब । 
अमर पुरी औरों सब लोका , तब महिमा सब रहे अशोका ।
 बाला में है ज्योति तुम्हारी , तुम्हें सदा पूजें नर नारी ।
 प्रेम भक्ति से जो जस गावै , दु : ख दारिद्र निकट नहिं आवे । । 
ध्यावै तुम्हें जो नर मन लाई , जन्म मरण ताको छुटि जाई । 
जोगी सुर मुनि कहत पुकारी , योग न हो बिन शक्ति तुम्हारी । 
शंकर आचारज तप कीनों , काम अरु क्रोध जीति सब लीनों ।
 निशि दिन ध्यान धरो शंकर को , काहु काल नहिं सुमिरो तुमको । 
शक्ति रूप को मरम न पायो , शक्ति गई तब मन पछितायो ।
 शरणागत हुई कीर्ति बखानी , जय जय जय जगदम्ब भवानी 

भई प्रसन्न आदि जगदम्बा , दई शक्ति नहीं कीन विलम्बा ।
 मोको मातु कष्ट अति धेरो , तुम बिन कौन हरे दुख मेरी । ।
 आशा तृष्णा निपट सतावे , रिपु मुरख मोहि अति डरपावे । । 
शत्रु नाश कीजै महारानी , सुमिरौं इक चित तुम्हें भवानी ।
 करो कृपा हे मातु दयाला , ऋद्धि सिद्धि दे करहु निहाला । । 
जब लगि जियौं दया फल पाऊँ , तुम्हरो जस मैं सदा सुनाऊँ ।
 दुर्गा चालीसा जो गावें , सब सुख भोग परम पद पावें ।
 देवीदास शरण निज जानी , करहु कृपा जगदम्ब भवानी । ।

। । दोहा । । 

शरणागत रक्षा करे , भक्त रहे नि : शंक । 
मैं आया तेरी शरण में , मातु लीजिये अंक । । ।

______________________________________________




ऐसे ही अन्य लेख जैसे चालीसा,शिक्षाप्रद कहानी,कविता और भक्ति व् ज्ञान के अद्भुत संगम के संग्रह को अपने Gmail अकाउंट में प्राप्त करने के लिए अभी Signup करे और पाये हमारे ताजा लेख सबसे पहले !! ध्यान रहे ! अपने ईमेल अकाउंट में वेरिफिकेशन प्रोसेस जरुर कम्पलीट कर ले , लेख पसंद आये तो शेयर व् कमेंट जरुर करे और whatsapp पर हमारे लेख प्राप्त करने के लिए नीचे क्लिक करे 


email updates



No comments

Powered by Blogger.