ज्ञानसागर परिवार में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520


Shree Giriraj Chalisa In Hindi | श्री गिरिराज चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

Shree Giriraj Chalisa In Hindi | श्री गिरिराज चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )



 ॥ दोहा॥

बन्दहुँ वीणा वादिनी , धरि गणपति को ध्यान । ।
 महाशक्ति राधा सहित , कृष्ण करौ कल्याण ।
 सुमिरन करि सब देवगण , गुरु पितु बारम्बार । 
बरनौ श्रीगिरिराज यश , निज मति के अनुसार । 

॥ चौपाई ॥

 जय हो जय बंदित गिरिराजा , ब्रज मण्डल के श्री महाराजा । 
विष्णु रूप तुम हो अवतारी , सुन्दरता पै जग बलिहारी । 
स्वर्ण शिखर अति शोभा पावें , सुर मुनि गण दरशन को आवें ।
 शांत कन्दरा स्वर्ग समाना , जहाँ तपस्वी धरते ध्याना ।

द्रोणगिरि के तुम युवराजा , भक्तन के साधौ हौ काजा ।
 मुनि पुलस्त्य जी के मन भाये , जोर विनय कर तुम कूं लाये ।
 मुनिवर संघ जब ब्रज में आये , लखि ब्रजभूमि यहाँ ठहराये । । 
विष्णु धाम गौलोक सुहावन , यमुना गोवर्धन वृन्दावन । ।
 देख देव मन में ललचाये , बास करन बहु रूप बनाये । 
कोउ बानर कोउ मृग के रूपा , कोउ वृक्ष कोउ लता स्वरूपा । ।
 आनन्द लें गोलोक धाम के , परम उपासक रूप नाम के ।
 द्वापर अंत भये अवतारी , कृष्णचन्द्र आनन्द मुरारी । 
महिमा तुम्हरी कृष्ण बखानी , पूजा करिबे की मन ठानी । 
ब्रजवासी सब ले लिये बुलाई , गोवर्धन पूजा करवाई ।
पूजन कूं व्यञ्जन बनवाये , ब्रजवासी घर घर ते लाये ।
 ग्वाल बाल मिलि पूजा कीनी , सहस भुजा तुमने कर लीनी । 

स्वयं प्रकट हो कृष्ण पूजा में , माँग माँग के भोजन पावें । 
लखि नर नारी मन हरषावें , जै जै जै गिरिवर गुण गावें । 
देवराज मन में रिसियाए , नष्ट करन ब्रज मेघ बुलाए । 
छाया कर ब्रज लियौ बचाई , एक बूंद न नीचे आई ।
 सात दिवस भई बरसा भारी , थके मेघ भारी जल धारी । । 
कृष्णचन्द्र ने नख पै धारे , नमो नमो ब्रज के पखवारे ।
 करि अभिमान थके सुरसाई , क्षमा माँग पुनि अस्तुति गाई । 
त्राहिमाम् मैं शरण तिहारी , क्षमा करो प्रभु चूक हमारी । ।
 बार बार बिनती अति कीनी , सात कोस परिकम्मा दीनी ।
 संग सुरभि ऐरावत लाये , हाथ जोड़ कर भेंट गहाये । 
अभय दान पा इन्द्र सिहाये , करि प्रणाम निज लोक सिधाये ।
 जो यह कथा सुनें चित लावें , अन्त समय सुरपति पद पावें ।

गोवर्द्धन है नाम तिहारौ , करते भक्तन कौं निस्तारौ । । 
जो नर तुम्हरे दर्शन पावें , तिनके दुःख दूर ह्वै जावें । ।
 कुण्डन में जो करें आचमन , धन्य धन्य वह मानव जीवन ।
मानसी गंगा में जो न्हावें , सीधे स्वर्ग लोक हूँ जावें ।
 “ दूध चढ़ा जो भोग लगावें , आधि व्याधि तेहि पास न आवें । 
जल फल तुलसी पत्र पढ़ावें , मन वांछित फल निश्चय पावें ।
 जो नर देत दूध की धारा , भरौ रहे ताकौ भण्डारा ।
 करें जागरण जो नर कोई , दुःख दरिद्र भय ताहि न होई । 
‘ श्याम ' शिलामय निज जन त्राता , भक्ति मुक्ति सरबस के दाता ।
 पुत्र हीन जो तुम कूँ ध्यावें , तार्के पुत्र प्राप्ति हवै जावें । । 
दंडौती परिकम्मा करहीं , ते सहजहि भवसागर तरहीं ।
 कलि में तुम सम देव न दूजा , सुर नर मुनि सब करते पूजा । 

॥ दोहा ॥

जो यह चालिसा पढ़ , सुनै शुद्ध चित्त लाय । 
सत्य सत्य यह सत्य है , गिरिवर करें सहाय ।
 क्षमा करहुँ अपराध मम , त्राहिमाम् गिरिराज ।
 श्याम बिहारी शरण में , गोवर्द्धन महाराज । 



ऐसे ही अन्य लेख जैसे चालीसा,शिक्षाप्रद कहानी,कविता और भक्ति व् ज्ञान के अद्भुत संगम के संग्रह को अपने Gmail अकाउंट में प्राप्त करने के लिए अभी Signup करे और पाये हमारे ताजा लेख सबसे पहले !! ध्यान रहे ! अपने ईमेल अकाउंट में वेरिफिकेशन प्रोसेस जरुर कम्पलीट कर ले , लेख पसंद आये तो शेयर व् कमेंट जरुर करे और whatsapp पर हमारे लेख प्राप्त करने के लिए नीचे क्लिक करे 


email updates



No comments

Powered by Blogger.