ज्ञानसागर परिवार में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520


Shree Kundalini Chalisa In Hindi | श्री कुंडलिनी चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )


Shree Kundalini Chalisa In Hindi


॥ दोहा ॥ 

सिर सहस्रदल कौ कमल , अमल सुधाकर ज्योति । । 
ताकी कनिका मध्य में , सिंहासन छवि होति ॥ 
शांत भाव आनंदमय , सम चित विगत विकार ।
 शशि रवि अगिन त्रिनेत्रयुत , पावन सुरसरिधार ॥
 सोहै अंक बिलासिनी , अरुन बरन सौ रूप । 
दक्षिण भुज गल माल शिव , बाएं कमल अनूप ॥
 धवल वसन सित आभरन , उज्जवल मुक्ता माल ।
 सोहत शरदाभा सुखद , गुरु शिव रूप कृपाल । । 
एक हाथ मुद्रा अभय , दूजे में वरदान । 
तीजे कर पुस्तक लसै , चौथे निरमल ज्ञान  


श्री गुरु घट नख चन्द्र सो , सविन मुछा की धार । ।
 तन कौ धोबत सकल मल,मन कौ हरत विकार  । ।
 जय सिद्धेश्वर रूप गुरू , जय विद्या अवतार । 
जय मणिमय गुरु पादुका , जयति दया - विस्तार । ।

।। चौपाई ।।

अकथ त्रिकोण कुंडकुल कैसो , जपाकुसुम गुड़हर रंग जैसो । । 
भुजगिनि  सरसिज तंतु तनी सी , दामिनि कोटि प्रभा रमन सी । 
अरुन बरन हिम किरन सुहानी , कुंडलिनी सुर नर मुनि मानी । 
ज्योतिर्लिंग लिपटी सुख सोई, अधोमुखी तन मन सुधि खोई । । 
 कुंडलि सार्द्ध त्रिवलयाकारा , सत रज तम गुन प्रकृति अधारा ।
 अखिल सृष्टि की कारण रूपा , संविदमय चित शक्ति अनूपा । 
रवि शशि कोटि रुचिर रंग राँची , शब्द - जननि शिव भामिनि सांची 

 हठ लय राजयोग संधानें , आगम निगम पुरान बखाने । 
कोटि जनम जीवन फल जागें , गुरु सिद्धेश्वर उर अनुरागें ।
 माया मिटै अविद्या नासै , कांत भाव रस मधुर बिलासै ।
 हुं हुंकार मंत्र की ऐनी , निद्रा तजि जागहु रस देनी । । 
आनंद ज्ञान अमृत रस दीजै , विषय - वासना तम हर लीजै । ।
 सुषमन गली भली सौदामिनी , पति के महल चली कुल भामिनि । 
छत्तीसन की बनी हवेली , छह मंजिल बारी अलबेली ।
 मूलाधार चतुर्दल सोहै , व श ष स बीजाक्षर जग मोहै । 
अवनि सुगंधि गजानन देवा , करत साकिनी की सुर सेवा । 
ब ल बीजन जल - महल बनायौ , स्वाधिष्ठान सरस सुख पायौ ।
 काकिनि अंबा तहां निवासै , चतुरानन रवि अयुत प्रकासै । 
नाभि कमल मणिपूरक सोहै , ड फ बीजाक्षर दशदल मोहै ।  

 नील रूप लाकिनि को भावै , प्रलयागिनि तहं पाप जरावै । 
हृदय चक्र द्वादस - दल बारौ , परसि मंत्र क ठ वायु विहारी ।
 हंस युगल तहं अजपा जापै , राकिनी अनहद नाद अलापै । 
कंठ व्योम में सबद रचायौ , षोडश नित्या कौ मन भायौ । 
चक्र विशुद्ध चन्द्र छवि छाजे , हर - गौरी डाकिनी विराजै । । 
भ्रूविच गिरि कैलाश सुहावे , योगिन मन मानस लहरावै । 
ह - क्ष बीज को ठौर ठिकानौ , आगम आज्ञा चक्र बखानी । । 
द्विदल कमल हाकिनी विराजे , शिव चिद अंब संग सुख साजै ।
 ता ऊपर चिंतामनि आँगन , कल्प वल्लरी कुंज सुहावन । ।
 कुंडलिनी घट्चक्रन भेदै , विधि हरि रुद्र ग्रंथि को छेदै । । 
ब्रह्मशिरा में धावै कैसे , सुरसरि सिंधु प्रवाहै तैसे । 
उबल प्रवाह छतीसन भेटे , निज में सब विस्तार समेटै । ।

पृथिवी रस , रस तेज समावै , तेज वायु तिमि नभहिं बिलावै ।
 नभ हंकार बुद्धि मन मेलै , मानस प्रकृति जीव में हेलै ।
 जीव नियति पुनि काल में , काल कला मिल जाहिं । 
तत्व अविद्या में घुरे , माया विद्या मांहि ।
 विद्या ईश सदाशिव पावै , शक्ति परम शिव के मन भावै । ।
 चक्र एक में एक मिलावै , यंत्रराज श्रीचक्र बनावै । 
कुंडलिनी कर कौर छतीसौ , सहस रहस रस रास थलीकौ । ।
 पिय की सेज सहसदल बारी , अक्ष कलिन सौं सखिन सम्हारी । 
रास रचै पिय संग रंग राती , परम पियूष पियै मदमाती । 
भर भर चसक सुधा बरसावे , मन प्रानन निज रूप बनावै ।
 छिन आरोह छिनक अवरोहै , तडिता आत्म प्रभा मुद मोहै । 
प्रणत जनन सौभाग्य सम्हारै , कोटि अनन्त ब्रह्मांड विहारै । 

 ॥ दोहा ॥ 

गुरु कृपाल जापै ढरैं, अम्ब होंय अनुकूल ।
 पावै परम रहस्य यह , आत्म शक्ति को मूल ॥ 
यह विद्या संकेतिनी , साधन सिद्धि अनूप । 
आप आपमें पावही , पूर्ण काम शिव रूप ॥
 




ऐसे ही अन्य लेख जैसे चालीसा,शिक्षाप्रद कहानी,कविता और भक्ति व् ज्ञान के अद्भुत संगम के संग्रह को अपने Gmail अकाउंट में प्राप्त करने के लिए अभी Signup करे और पाये हमारे ताजा लेख सबसे पहले !! ध्यान रहे ! अपने ईमेल अकाउंट में वेरिफिकेशन प्रोसेस जरुर कम्पलीट कर ले , लेख पसंद आये तो शेयर व् कमेंट जरुर करे और whatsapp पर हमारे लेख प्राप्त करने के लिए नीचे क्लिक करे 


email updates



No comments

Powered by Blogger.