ज्ञानसागर परिवार में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520


Shree Mahalaxmi Chalisa In Hindi | श्री महालक्ष्मी चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

Shree Mahalaxmi Chalisa In Hindi | श्री महालक्ष्मी चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

 । । दोहा  । ।

 जय जय श्री महालक्ष्मी करूँ मात तव ध्यान । । 
सिद्ध काज मम कीजिए निज शिशु सेवक जान । । 

 ॥ चौपाई ॥

 नमो महालक्ष्मी जय माता , तेरो नाम जगत विख्याता । 
आदि शक्ति हो मात भवानी , पूजत सब नर मुनि ज्ञानी ।
 जगत पालिनी सब सुख करनी , निज जनहित भण्डारन भरनी । 
श्वेत कमल दल पर तव आसन , मात सुशोभित है पद्मासन । 
श्वेताम्बर अरु श्वेता भूषन , श्वेतहि श्वेत सुसज्जित पुष्पन । । 
शीश छत्र अति रूप विशाला , गल सौहे मुक्तन की माला । । 
सुन्दर सोहे कुंचित केशा , विमल नयन अरू अनुपम भेषा ।
 कमलनाल समभुज तवचारी , सुरनर मुनि जनहित सुखकारी ।


अद्भुत छटा मात तव बानी , सकलविश्व कीन्हो सुखखानी । 
शांतिस्वभाव मृदुल तव भवानी , सकल विश्व की हो सुखखानी । । 
महालक्ष्मी धन्य हो माई , पंच तत्व में सृष्टि रचाई । 
जीव चराचर तुम उपजाए , पशु पक्षी नर नारि बनाए । 
क्षितितल अगणित वृक्ष जमाए , अमित रंग फल फूल सुहाए । 
छवि बिलोकि सुरमुनि नरनारी , करे सदा तव जय - जयकारी । 
सुरपति औ नरपत सब ध्यावै , तेरे सम्मुख शीश नवावै ।
 चारहु वेदन तव यश गाया , महिमा अगम पार नहिं पाया । 
जापर करहु मातु तुम दाया , सोई जग में धन्य कहाया । 
पल में राजाहि रंक बनाओ , रंक राव कर विलम्ब न लाओ ।
 जिन घर करहु मात तुम बासा , उनका यश हो विश्व प्रकाशा । 
जो ध्यावै सो बहु सुख पावै , विमुख रहै जो दुःख उठावै ।
 महालक्ष्मी जन सुख दाई , ध्याऊँ तुमको शीश नवाई ।
 निजजन जानि मोहि अपनाओ , सुख सम्पति दे दुःख नसाओ । ।

 निजजन जानि मोहिं अपनाओ , सुख सम्पति दे  दु:ख नसाओ ।
ॐ श्री श्री जय सुख की खानी , रिद्धि सिद्धि देउ मात जनजानी ।
ॐ ह्रीं ॐ ह्रीं सब ब्याधि हटाओ , जनउन बिमल दृष्टि दर्शाओ ।
 ॐक्लीं ॐ क्लीं शत्रुन क्षयकीजै , जनहित मात अभय वर दीजै । 
ॐजय  जयति  जय जननी , सकल  काज  भक्तन  के सरनी ।
 ॐ नमो नमो भवनिधि तारनी , तरणि भंवर से पार उतारनी ।
 सुनहु मात यह विनय हमारी , पुरवहु आशन करहु अबारी ।
 ऋणी दुःखी जो तुमको ध्यावै , सो प्राणी सुख सम्पत्ति पावै ।
 रोग ग्रसित जो ध्यावै कोई , ताकी निर्मल काया होई । 
विष्णु प्रिया जय - जय महारानी , महिमा अमित न जाय बखानी । 
पुत्रहीन जो ध्यान लगावै , पाये सुत अतिहि हुलसावै ।
 त्राहि त्राहि शरणागत तेरी , करहु मात अब नेक न देरी । । 
आवह मात विलम्ब न कीजै , हृदय निवास भक्त बर दीजै ।

जानूँ जप तप का नहि भेवा , पार करो भवनिधि बन खेवा । 
बिनवों बार - बार कर जोरी , पूरण आशा करहु अब मेरी । 
जानि दास मम संकट टारौ , सकल व्याधि से मोहिं उबारौ ।
 जो तव सुरति रहै लिव लाई , सो जग पावै सुयश बड़ाई । 
छायो यश तेरा संसारा , पावत शेष शम्भु नहिं पारा ।
 गोविंद निशदिन शरण तिहारी , करहु पूरण अभिलाष हमारी । 

 । । दोहा । ।

महालक्ष्मी चालीसा पढ़ै सुनै चित लाय । 
 ताहि पदारथ मिलै अब कहै वेद अस गाय । । 

______________________________________________





ऐसे ही अन्य लेख जैसे चालीसा,शिक्षाप्रद कहानी,कविता और भक्ति व् ज्ञान के अद्भुत संगम के संग्रह को अपने Gmail अकाउंट में प्राप्त करने के लिए अभी Signup करे और पाये हमारे ताजा लेख सबसे पहले !! ध्यान रहे ! अपने ईमेल अकाउंट में वेरिफिकेशन प्रोसेस जरुर कम्पलीट कर ले , लेख पसंद आये तो शेयर व् कमेंट जरुर करे और whatsapp पर हमारे लेख प्राप्त करने के लिए नीचे क्लिक करे 


email updates



No comments

Powered by Blogger.