ज्ञानसागर परिवार में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520


Shree Pasharvnath Chalisa In Hindi | श्री पाशर्वनाथ चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

Shree Pasharvnath Chalisa In Hindi | श्री पाशर्वनाथ चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

  ॥ दोहा ॥

 शीश नवा अरिहंत को , सिद्धन करुं प्रणाम । 
उपाध्याय आचार्य का , ले सुखकारी नाम । । 
सर्व साधु और सरस्वती , जिन मन्दिर सुखकार ।
 अहिच्छत्र और पार्श्व को , मन मन्दिर में धार । ।

 ॥ चौपाई ॥ 

पाश्र्वनाथ जगत हितकारी , हो स्वामी तुम व्रत के धारी । 
सुर नर असुर करें सेवा , तुम ही सब देवन के देवा ।
 तुमसे करम शत्रु भी हारा , तुम कीना जग का निस्तारा । 
अश्वसेन के राजदुलारे , वामा की आँखों के तारे । 
काशी जी के स्वामी कहाये , सारी प्रजा मौज उड़ाये । । 

इक दिन सब मित्रों को लेके , सैर करन को बन में पहुंचे । 
हाथी पर कसकर अम्बारी , इक जंगल में गई सवारी । ।
 एक तपस्वी देख वहाँ पर , उससे बोले वचन सुनाकर । 
तपसी ! तुम क्यों पाप कमाते , इस लक्कड़ में जीव जलाते ।
 तपसी तभी कुदाल उठाया , उस लक्कड़ को चीर गिराया ।
 निकले नाग - नागनी कारे , मरने के थे निकट बिचारे । 
रहम प्रभु के दिल में आया , तभी मन्त्र नवकार सुनाया ।
 मरकर वो पाताल सिधाये , पद्मावती धरणेन्द्र कहाये ।
 तपसी मरकर देव कहाया , नाम कमठ ग्रन्थों में गाया । 
एक समय श्री पारस स्वामी , राज छोड़ कर वन की ठानी । । 
तप करते थे ध्यान लगाये , एक दिन कमठ वहाँ पर आये । 
फौरन ही प्रभु को पहिचाना , बदला लेना दिल में ठाना । 
बहुत अधिक वर्षा बरसाई , बादल गरजे बिजली गिराई ।

बहुत अधिक पत्थर बरसाये , स्वामी तन को नहीं हिलाये । 
पद्मावत धरणेन्द्र भी आये , प्रभु की सेवा में चित लाये ।
 पद्मावति ने फन फैलाया , उस पर स्वामी को बैठाया । 
धरणेन्द्र ने फन फैलाया , प्रभु के सर पर छत्रे बनाया । 
कर्मनाश प्रभु ज्ञान उपाया , समोशरण देवेन्द्र रचाया ।
 यही जगत अहिच्छत्र कहाये , पात्र केसरी जहाँ पर आये ।
 शिष्य पाँच सौ संग विद्वाना , जिनको जाने सकल जहाना । 
पाश्र्वनाथ का दर्शन पाया , सबने जैन धरम अपनाया । 
अहिच्छत्र श्री सुन्दर नगरी , जहाँ सुखी थी प्रजा सगरी ।
 राजा श्री वसुपाल कहाये , वो इक जिन मन्दिर बनवाये ।
 प्रतिमा पर पालिश वग , फौरन इक मिस्त्री बुलवाया । 
वह मिस्त्री मांस खाता था ,इससे पालिश गिर जाता था ।
 मुनि ने उसे उपाय बताया,पारस दर्शन व्रत दिलवाया ।

 मिस्त्री ने व्रत पालन कीना , फौरन ही रंग चढ़ा नवीना ।
 गदर सतावन का किस्सा है , इक माली को यो लिक्खा है ।
 माली एक प्रतिमा को लेकर , झट छुप गया कूए के अन्दर ।
 उस पानी का अतिशय यश भारी , दूर होय सारी बीमारी ।
 जो अहिच्छत्र हृदय से ध्यावे , सो नर उत्तम पदवी पावे । 
पुत्र संपदा की बढ़ती हो , पापों की इक दम घटती हो । 
है तहसील आंवला भारी , स्टेशन पर मिले स्वारी । 
रामनगर इक ग्राम बराबर , जिसको जाने सब नारी नर ।
 चालीसे को ‘ इन्द्र बनाये , हाथ जोड़कर शीश नवाये । 

 ॥ सोरठा ॥ 

नित चालीसहिं बार , पाठ करे चालीस दिन ।
 खेय सुगन्ध अपार , अहिच्छत्र में आय के । 
होय कुबेर समान , जन्म दरिद्री होय जो ।
 जिसके नहिं सन्तान , नाम वंश जग में चले ॥


ऐसे ही अन्य लेख जैसे चालीसा,शिक्षाप्रद कहानी,कविता और भक्ति व् ज्ञान के अद्भुत संगम के संग्रह को अपने Gmail अकाउंट में प्राप्त करने के लिए अभी Signup करे और पाये हमारे ताजा लेख सबसे पहले !! ध्यान रहे ! अपने ईमेल अकाउंट में वेरिफिकेशन प्रोसेस जरुर कम्पलीट कर ले , लेख पसंद आये तो शेयर व् कमेंट जरुर करे और whatsapp पर हमारे लेख प्राप्त करने के लिए नीचे क्लिक करे 


email updates



No comments

Powered by Blogger.