ज्ञानसागर ब्लॉग में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520

Header Ads



Shree Shyam Khatu Chalisa In Hindi Pdf | श्री खाटू श्याम चालीसा पीडीऍफ़ | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

Shree Shyam Khatu Chalisa In Hindi | श्री खाटू श्याम चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )


श्री खाटू श्याम चालीसा - १ 

। । दोहा । । 

श्री गुरु चरण ध्यान धर , सुमिर सच्चिदानन्द । 
श्याम चालीसा भणत हूँ , रच चौपाई छंद । 

॥ चौपाई ॥

 श्याम श्याम भजि बारम्बारा , सहज ही हो भवसागर पारा । 
इन सम देव न दूजा कोई , दीन दयालु न दाता होई । 
भीमसुपुत्र अहिलवती जाया , कहीं भीम का पौत्र कहाया ।
 यह सब कथा सही कल्पान्तर , तनिक न मानों इसमें अन्तर । 
बर्बरीक विष्णु अवतारा , भक्तन हेतु मनुज तनु धारा । 
वसुदेव देवकी प्यारे , यशुमति मैया नन्द दुलारे । 
मधसूदन गोपाल मुरारी , बृजकिशोर गोवर्धन धारी ।

सियाराम श्री हरि गोविन्दा , दीनपाल श्री बाल मुकन्दा । । 
दामोदर रणछोड़ बिहारी , नार्थ द्वारिकाधीश खरारी । । 
नरहरि रूप प्रहलाद प्यारा , खम्भ फारि हिरनाकुश मारा ।
 राधा वल्लभ रुक्मिणी कंता , गोपी वल्लभ कंस हंनता  ।
 मनमोहन चित्तचोर कहाये , माखन चोरि चोरि कर खाये । 
मुरलीधर यदुपति घनश्याम , कृष्ण पतितपावन अभिरामा ।
 मायापति लक्ष्मीपति ईसा , पुरुषोत्तम केशव जगदीश । 
विश्वपति त्रिभुवन उजियारा , दीन बन्धु भक्तन रखवारा ।
 प्रभु का भेद कोई न पाया , शेष महेश थके मुनिराया ।
 नारद शारद ऋषि योगिन्दर , श्याम श्याम सब रटत निरन्तर 
कवि कोविद करि सके न गिनन्ता , नाम अपार अथाह अनन्ता । 
 हर सृष्टि हर युग में भाई, ले अवतार भक्त सुखदाई !!

  हृदय माँहि करि देखु विचारा , श्याम भजे तो हो निस्तारा । 
कीर पढ़ावत गणिका तारी , भीलनी की भक्ति बलिहारी । 
सती अहिल्या गौतम नारी , भई श्रापवश शिला दुखारी ।
 श्याम चरण रज नित लाई , पहुँची पतिलोक में जाई । 
अजामिल अरू सदन कसाई , नाम प्रताप परम गति पाई ।
 जाके श्याम नाम अधारा , सुख लहहि दु : ख दूर हो सारा । 
श्याम सुलोचन है अति सुन्दर , मोर मुकुट सिर तन पीताम्बर ।
 गल वैजयन्तिमाल सुहाई , छवि अनूप भक्तन मन भाई । 
श्याम श्याम सुमिरहु दिनराती , शाम दुपहरि अरू परभाती ।
 ' श्याम सारथी जिसके रथ के , रोड़े दूर होय उस पथ के ।
 श्याम भक्त न कहीं पर हारा , भीर परी तब श्याम पुकारा । 
रसना श्याम नाम रस पी ले , जी ले श्याम नाम के हाले ।

 संसारी सुख भोग मिलेगा , अन्त श्याम सुख योग मिलेगा ।
 श्याम प्रभु हैं तन के काले , मन के गोरे भोले भाले । 
श्याम संत भक्तन हितकारी , रोग दोष अघ नाशै भारी । 
प्रेम सहित जे नाम पुकारा , भक्त लगत श्याम को प्यारा । 
खाटू में है मथुरा वासी , पार ब्रह्म पूरण अविनासी । 
सुधा तान भरि मुरली बजाई , चहुं दिशि नाना जहाँ सुनि पाई । 
वृद्ध बाल जेते नारी नर , मुग्ध भये सुनि वंशी के स्वर । 
दौड़ दौड़ पहुँचे सब जाई , खाटू में जहां श्याम कन्हाई । 
जिसने श्याम स्वरूप निहारा , भव भय से पाया छुटकारा ।
  
। । दोहा । । 

श्याय सलोने साँवरे , बर्बरीक तनु धार । 
इच्छा पूर्ण भक्त की , करो न लाओ बार । । 

________________________________________

श्री खाटू श्याम चालीसा - २ 

जय हो सुंदर श्याम हमारे , मोर मुकुट मणिमय हो धारे ।
कानन के कुण्डल मोहे ,पीत वस्त्र क
हत दुद माला , साँवरी सूरत भुजा विशाला । ।
 न ही दोन लोक के स्वामी , घट घट के हो अंतरयामी ।
 पद्मनाभ विष्णु अवतारी , अखिल भुवन के तुम रखवारी । । 
खाटू में प्रभु आप विराजे , दर्शन करते सकल दुःख भाजे । 
इत सिंहासन आय सोहते , ऊपर कलशा स्वर्ण मोहते । 
अगद अनट अच्युत जगदा , माधव सुर नर सुरपति ईशा । 
बाजत नौबत शंख नगारे , घंटा झालर अति इनकारे ।
 माखन मिश्री भोग लगावे , नित्य पुजारी चंवर लावे ।

 जय जय कार होत सब भारी , दुःख बिसरत सारे नर नारी । 
जो कोई तुमको मन से ध्याता , मन वांछित फल वो नर पाता । 
जन मन गण अधिनायक तुम हो , मधुमय अमृत वाणी तुम हो । 
विद्या के भण्डार तुम्ही हो , सब ग्रंथन के सार तुम्ही हो ।
 आदि और अनादि तुम हो , कविजन की कविता में तुम हो । 
नील गगन की ज्योति तुम हो , सूरज चाँद सितारे तुम हो । 
तुम हो एक अरु नाम अपारा , कण कण में तुमरा विस्तारा । ।
 भक्तों के भगवान तुम्हीं हो , निर्बल के बलवान तुम्ही हो । 
तुम हो श्याम दया के सागर , तुम हो अनंत गुणों के सागर । ।
 मन दृढ़ राखि तुम्हें जो ध्यावे , सकल पदारथ वो नर पावे । ।
 तुम हो प्रिय भक्तों के प्यारे , दीन दुःखी जन के रखवारे । 
पुत्रहीन जो तुम्हें मनावे , निश्चय ही वो नर सुत पावे ।

 जय जय जय श्री श्याम बिहारी , मैं जाऊँ तुम पर बलिहारी । 
जनम मरण सों मुक्ति दीजे , चरण शरण मुझको रख लीजे । । 
प्रातः उठ जो तुम्हें मनावें , चार पदारथ वो नर पावें । 
तुमने अधम अनेकों तारे , मेरे तो प्रभु तुम्ही सहारे ।
मैं हूँ चाकर श्याम तुम्हारा , दे दो मुझको तनिक सहारा । 
कोढ़ी जन आवत जो द्वारे , मिटे कोढ़ भागत दु : ख सारे । 
नयनहीन तुम्हारे ढिंग आवे , पल में ज्योति मिले सुख पावे ।
 मैं मूरख अति ही खल कामी , तुम जानत सब अंतरयामी । 
एक बार प्रभु दरसन दीजे , यही कामना पूरण कीजे । 
जब जब जनम प्रभु मैं पाऊँ , तब चरणों की भक्ति पाऊँ । । 
मैं सेवक तुम स्वामी मेरे , तुम हो पिता पुत्र हम तेरे । 
मुझको पावन भक्ति दीजे , क्षमा भूल सब मेरी कीजे ।  

 पढ़े श्याम चालीसा जोई , अंतर में सुख पावे सोई । । 
सात पाठ जो इसका करता , अन्न धन से भंडार है भरता ।
 जो चालीसा नित्य सुनावे , भूत पिशाच निकट नहिं आवे । । 
सहस्र बार जो इसको गावहि , निश्चय वो नर मुक्ति पावहि । । 
किसी रूप में तुमको ध्यावे , मन चीते फल वो नर पावे । । ‘
 नन्द ' बसो हिरदय प्रभु मेरे , राखो लाज शरण मैं तेरे । । 
______________________________________________
Shree Shyam Khatu Chalisa In Hindi Pdf | श्री खाटू श्याम चालीसा पीडीऍफ़ | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

सारांश सागर

सारांश सागर द्वारा प्रकाशित किया गया

अनुभव को सारांश में बताकर स्वयं प्रेरित होकर सबको प्रेरित करना चाहता हूँ !             


No comments

Powered by Blogger.