ज्ञानसागर परिवार में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520


Shree Vindhyeshwari Chalisa In Hindi | श्री विन्ध्येश्वरी चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

Shree Vindhyeshwari Chalisa In Hindi | श्री विन्ध्येश्वरी चालीसा | चालीसा संग्रह | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

। ।  दोहा  । । 

नमो नमो विन्ध्येश्वरी , नमो नमो जगदम्व । ।
 सन्त जनों के काज में करती नहीं विलम्ब । । |

॥ चौपाई ॥ 

जय जय जय विन्ध्याचल रानी , आदि शक्ति जग विदित भवानी । । 
सिंहवाहिनी जय जगमाता , जय जय जय त्रिभुवन सुखदाता । ।
 कष्ट निवारिणी जय जग देवी , जय जय सन्त असुर सुर सेवी । । 
महिमा अमित अपार तुम्हारी , शेष सहस मुख वर्णत हारी । 
दीनन के दुःख हरत भवानी , नहिं देख्यो तुम सम कोउ दानी । ।
 सब कर मनसा पुरवत माता , महिमा अमित जगत विख्याता । । 
जो जन ध्यान तुम्हारो लावै , सो तुरतहिं वांछित फल पावै । । 
तू ही वैष्णवी तू ही रुद्रानी , तू ही शारदा अरु ब्रह्माणी। ।

रमा राधिका श्यामा काली , तू ही मातु सन्तन प्रतिपाली ।
 उमा माधवी चण्डी ज्वाला , बेगि मोहि पर होहु दयाला । 
तू ही हिंगलाज महारानी , तू ही शीतला अरु विज्ञानी । 
दुर्गा दुर्ग विनाशिनी माता , तू ही लक्ष्मी जग सुख दाता ।
 तू ही जाह्नवी अरु उत्राणी , हेमावती अम्ब निरवाणी । 
अष्टभुजी वाराहिनी देवा , करत विष्णु शिव जाकर सेवा ।
 चौसट्टी देवी कल्यानी , गौरी मंगला सब गुण खानी । 
पाटन मुम्बा दन्त कुमारी , भद्रकाल सुन विनय हमारी । 
वज्र धारिणी शोक नाशिनी , आयु रक्षिणी विन्ध्यवासिनी । 
जया और विजया बैताली , मात संकटी अरु विकराली ।
 नाम अनन्त तुम्हार भवानी , बरनै किमि मानुष अज्ञानी । 
जापर कृपा मात तव होई , तो वह करे चहै मन जोई । 
कपा करहु मोपर महारानी , सिद्ध करिए अब यह मम बानी । ।


जो नर धेरै मात कर ध्याना , ताकर सदा होय कल्याना । 
विपति ताहि सपनेहु नहिं आवै , जो देवी का जाप करावै ।
 जो नर कहं ऋण होय अपारा , सो नर पाठ करे शतबारा ।
 निश्चय ऋण मोचन होई जाई , जो नर पाठ करे मन लाई । 
अस्तुति जो नर पढ़े पढ़ावै , या जग में सो अति सुख पावै ।
 जाको व्याधि सतावे भाई , जाप करत सब दूर पराई ।
 जो नर अति बन्दी महँ होई , बार हजार पाठ कर सोई । 
निश्चय बन्दी ते छुटि जाई , सत्य वचन मम मानहु भाई ।
जापर जो कछु संकट होई , निश्चय देविहिं सुमिरे सोई ।
 जा कहँ पुत्र होय नहिं भाई , सो नर या विधि करे उपाई ।
 पाँच वर्ष जो पाठ करावे , नौरातन में विप्र जिमावे । 
निश्चय होहिं प्रसन्न भवानी , पुत्र देहि ताकहँ गुणखानी ।
 ध्वजा नारियल आन चढ़ावे , विधि समेत पूजन करवावे ।
नित्य प्रति पाठ करे मन लाई , प्रेम सहित नहिं आन उपाई । 
यह श्री विन्ध्याचल चालीसा , रंक पढ़त होव अवनासा । ।
 यह जनि अचरज मानहँ भाई , कृपा दृष्टि जापर हुई जाई ।
 जय जय जय जग मातु भवानी , कृपा करहु मोहिं पर जन जानी  । 

______________________________________________




ऐसे ही अन्य लेख जैसे चालीसा,शिक्षाप्रद कहानी,कविता और भक्ति व् ज्ञान के अद्भुत संगम के संग्रह को अपने Gmail अकाउंट में प्राप्त करने के लिए अभी Signup करे और पाये हमारे ताजा लेख सबसे पहले !! ध्यान रहे ! अपने ईमेल अकाउंट में वेरिफिकेशन प्रोसेस जरुर कम्पलीट कर ले , लेख पसंद आये तो शेयर व् कमेंट जरुर करे और whatsapp पर हमारे लेख प्राप्त करने के लिए नीचे क्लिक करे 


email updates



No comments

Powered by Blogger.