ज्ञानसागर ब्लॉग में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520


एक प्रेरणादायक कविता - आओ स्वच्छ करें निर्मल भारत

एक प्रेरणादायक कविता - आओ स्वच्छ करें निर्मल भारत

आओ स्वच्छ करें निर्मल भारत

नदी-नालों में अविरल जल की फिर से धार बहे सुरमय,
गली-बगीचे मुग्ध दिखें और पुष्प खिलें सुंदर तनमय,
हर नारी विदुषी हो और कर्मठ हो हर घर बालक,
आओ स्वच्छ करें निर्मल भारत... 
आओ स्वच्छ करें निर्मल भारत... 


हो आचरण हमारे ऐसे विश्व को कुछ सिखला जाऊं,
निज माँ भी कोख पर गर्व करें और सबका प्यारा बन जाऊं ,
मातृभूमि की रक्षा हित में हो निपुण सदा मेरी आदत !!
आओ स्वच्छ करें निर्मल भारत... 
आओ स्वच्छ करें निर्मल भारत... 

हम आपस का भेद मिटाकर सबको हृदय से लिपटाए,
छत्तीस कौम के भाईचारे का परचम हम सब लहराएं,
जाति-धर्म का भेद नहीं हमें प्रेम-प्रीत की है चाहत,
आओ स्वच्छ करें निर्मल भारत... 
आओ स्वच्छ करें निर्मल भारत... 
..
लोकतंत्र के भ्रष्ट तंत्र का हमपे षड्यंत्र कराते है,
हमारा हक मार कर वे उसे अपना अधिकार बतलाते  है,
सत्त्ता के इन चोरों पर हम आओ चोट करें कठोर घातक !!
आओ स्वच्छ करें निर्मल भारत... 
आओ स्वच्छ करें निर्मल भारत... 

हत्या-लूट और बलत्कार से व्यथित हो गया है मेरा मन,
बच्ची भ्रूण में मार दी जाती , देख रहे पूरे जन-गण !
पुनः प्रकट हो प्रभु राम , माधव करो तुम महाभारत  !!
आओ स्वच्छ करें निर्मल भारत... 
आओ स्वच्छ करें निर्मल भारत... 



ऐसे ही अन्य लेख जैसे चालीसा,शिक्षाप्रद कहानी,कविता और भक्ति व् ज्ञान के अद्भुत संगम के संग्रह को अपने Gmail अकाउंट में प्राप्त करने के लिए अभी Signup करे और पाये हमारे ताजा लेख सबसे पहले !! ध्यान रहे ! अपने ईमेल अकाउंट में वेरिफिकेशन प्रोसेस जरुर कम्पलीट कर ले , लेख पसंद आये तो शेयर करे और whatsapp पर हमारे लेख प्राप्त करने के लिए नीचे क्लिक करे 


email updates


सारांश सागर

प्रशांत सिंह चौहान द्वारा लिखा गया

भावों के शब्दों को पिरोकर मैं माला बनाता हूँ जिसे आप कविता कहते है और उसी से प्रेरित होकर सबको प्रेरित करना चाहता हूँ !             



No comments

Powered by Blogger.