ज्ञानसागर ब्लॉग में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520 ! अपने व्यापार य सर्विस की वेबसाइट बनवाने हेतु संपर्क करे !

Header Ads



एक प्रेरणादायक कविता - बेटी की पुकार ( पर जन्म से पहले न देना मार ) | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

एक प्रेरणादायक कविता - बेटी की पुकार ( पर जन्म से पहले न देना मार )


बेटी की पुकार 
( पर जन्म से पहले न देना मार )

जो देते हो औरों को प्यार
छीन ना लेना, मुझसे मेरा अधिकार
चाहे ना देना, मुझको ऐसा दुलार
पर जन्म से पहले न देना मार

बस मांग रही हूँ ये उपहार 
जग में आने का दे दो अधिकार
इतनी सी है मेरी पुकार 
मांग रही हूँ बस जग का प्यार

न कोई सपना न कोई अभिलाषा 
बस इतनी सी है मेरी आशा
आज ना देना मुझको निराशा
इस नन्ही की यही है आशा

हमको को भी दे दो अधिकार
बस करना इतना सा उपकार
हमे कभी न देना मार
जीने का दे दो अधिकार !!

स्वार्थ में आकर देना ना मार
दे दो हमको साँसे इस बार 
मांग रही हूँ बस यही उधार
होगा जग का बड़ा उपकार

बस इतनी सी है मेरी आशा
आज ना देना मुझको निराशा
चाहे ना देना मुझको ऐसा दुलार
पर जन्म से पहले न देना मार !!
पर जन्म से पहले न देना मार !!


कविता अच्छी लगी हो तो शेयर जरुर करे ! धन्यवाद 

सारांश सागर

रौशनी कुमारी द्वारा लिखा गया

नमस्कार पाठकों ! मै रौशनी कुमारी नॉएडा की निवासी हूँ। मुझे कवितायें लिखना बहुत पसंद है क्योंकि इनके माध्यम से मैं अपने भाव और विचारों को आसानी से आप सभी तक पहुंचा सकती हूँ             

No comments

Powered by Blogger.