ज्ञानसागर ब्लॉग में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520


एक प्रेरणादायक कविता - बेटी की पुकार ( पर जन्म से पहले न देना मार )

एक प्रेरणादायक कविता - बेटी की पुकार ( पर जन्म से पहले न देना मार )


बेटी की पुकार 
( पर जन्म से पहले न देना मार )

जो देते हो औरों को प्यार
छीन ना लेना, मुझसे मेरा अधिकार
चाहे ना देना, मुझको ऐसा दुलार
पर जन्म से पहले न देना मार

बस मांग रही हूँ ये उपहार 
जग में आने का दे दो अधिकार
इतनी सी है मेरी पुकार 
मांग रही हूँ बस जग का प्यार

न कोई सपना न कोई अभिलाषा 
बस इतनी सी है मेरी आशा
आज ना देना मुझको निराशा
इस नन्ही की यही है आशा

हमको को भी दे दो अधिकार
बस करना इतना सा उपकार
हमे कभी न देना मार
जीने का दे दो अधिकार !!

स्वार्थ में आकर देना ना मार
दे दो हमको साँसे इस बार 
मांग रही हूँ बस यही उधार
होगा जग का बड़ा उपकार

बस इतनी सी है मेरी आशा
आज ना देना मुझको निराशा
चाहे ना देना मुझको ऐसा दुलार
पर जन्म से पहले न देना मार !!
पर जन्म से पहले न देना मार !!

ऐसे ही अन्य लेख जैसे चालीसा,शिक्षाप्रद कहानी,कविता और भक्ति व् ज्ञान के अद्भुत संगम के संग्रह को अपने Gmail अकाउंट में प्राप्त करने के लिए अभी Signup करे और पाये हमारे ताजा लेख सबसे पहले !! ध्यान रहे ! अपने ईमेल अकाउंट में वेरिफिकेशन प्रोसेस जरुर कम्पलीट कर ले , लेख पसंद आये तो शेयर करे और whatsapp पर हमारे लेख प्राप्त करने के लिए नीचे क्लिक करे 


email updates


सारांश सागर

रौशनी कुमारी द्वारा लिखा गया

नमस्कार पाठकों ! मै रौशनी कुमारी नॉएडा की निवासी हूँ। मुझे कवितायें लिखना बहुत पसंद है क्योंकि इनके माध्यम से मैं अपने भाव और विचारों को आसानी से आप सभी तक पहुंचा सकती हूँ             

No comments

Powered by Blogger.