ज्ञानसागर ब्लॉग में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520


ईश्वर सद्गुणों के संग्रह है, सद्गुण अपनाये बिना पूजा व्यर्थ है - जीवन दर्शन | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

ईश्वर सद्गुणों के संग्रह है, सद्गुण अपनाये बिना पूजा व्यर्थ है  - जीवन दर्शन | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

ईश्वर सद्गुणों के संग्रह है ! संग्रह को अपनाया ही नही तो ईश्वर खुश नही होने वाले !! न घंटा बजाने से न कीर्तन करने से और न ही शंख बजाने से ! ये सब निजी संतुष्टि के उदाहरण मात्र है जिनसे एक निश्चित समय के लिये मानसिक और शारीरिक लाभ जरूर मिलता है पर जीवन को सन्मार्ग और हंसी खुशी स्वस्थ्य रहते हुए अगर जीना चाहते है तो जीवन जीने के तरीके को बदलना होगा और उसके लिये कई महात्माओं ने अपने जीवन को आदर्श रूप में प्रस्तुत किया है क्योंकि ईश्वर जानते थे कि ईश्वर के व्यवहार को मनुष्य ये कहकर नही अपनायेगा कि ईश्वर है वो तो कुछ भी कर सकते है पर हमारा दुर्भाग्य है कि ईश्वर मनुष्य रूप में जन्म लेकर भी मानव जाति को काफी कुछ उदाहरण स्वरूप सीखा और अनमोल ज्ञान दे चुके है पर हम है कि भाग्य भरोसे य फिर झूठी चाटुकारिता भगवान कि करके उन्हें प्रसन्न करने जी कोशिश करते है जबकि ये सिर्फ एक निजी स्वार्थ मात्र ही है ईश्वर की सच्ची असली सेवा नही - दिल के झरोखे से 


ऐसे ही अन्य लेख जैसे चालीसा,शिक्षाप्रद कहानी,कविता और भक्ति व् ज्ञान के अद्भुत संगम के संग्रह को अपने Gmail अकाउंट में प्राप्त करने के लिए अभी Signup करे और पाये हमारे ताजा लेख सबसे पहले !! ध्यान रहे ! अपने ईमेल अकाउंट में वेरिफिकेशन प्रोसेस जरुर कम्पलीट कर ले , लेख पसंद आये तो शेयर करे और whatsapp पर हमारे लेख प्राप्त करने के लिए नीचे क्लिक करे 

सारांश सागर

सारांश सागर द्वारा प्रकाशित किया गया

अनुभव को सारांश में बताकर स्वयं प्रेरित होकर सबको प्रेरित करना चाहता हूँ !             

No comments

Powered by Blogger.