एक भावनापूर्ण कविता – प्यार है य दोस्ती ये बता न सके | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

  एक भावनापूर्ण कविता - प्यार है य दोस्ती ये बता न सके | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

प्रस्तुत कविता रौशनी कुमारी द्वारा रचित है जो ( खोड़ा ) गाजियाबाद क्षेत्र की निवासी है व् राजकीय डिग्री कॉलेज की छात्रा व् सामाजिक कार्यकर्ता एवं चैलेंजर्स ग्रुप ( पंजीकृत ) की सदस्य है  !
________________________________________________________

प्यार पाना तो सीखा

पर जता ना सके !
जिंदगी से हँसना तो सीखा
पर किसी को हँसा ना सके !!
                       
उम्र भर का साथ 
हम यूँ ही गवां न सके !
ख़ुशी दिखाना तो सीखा 
पर उदासी छिपा ना सके !!

दोस्त बनाना तो सीखा
पर दोस्ती निभा न सके !
वो हमे भूल गये ! 
हम उन्हें भुला न सके !!

वो गये हमे छोड़ रास्ते में
हम उन्हें पलट कर बुला ना सके !
उनकी ख़ुशी की खातिर
हम खुद को रुला न सके !!

हम यूँ ही दोस्ती निभाते रहे पर
कम्बखत !
दिल ऐ राज दोस्ती का हम उन्हें बता ना सके !!

Leave a Reply

Your email address will not be published.