ज्ञानसागर ब्लॉग में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520 ! अपने व्यापार य सर्विस की वेबसाइट बनवाने हेतु संपर्क करे !

Header Ads



जानिये एलोरा स्थित 1200 साल पुराना " कैलाश मंदिर" के बारे में | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

जानिये एलोरा स्थित 1200 साल पुराना " कैलाश मंदिर" के बारे में | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

कैलाश मंदिर दुनिया भर में एक ही पत्थर की शिला से बनी हुई सबसे बड़ी मूर्ति के लिए प्रसिद्ध है। इस मंदिर को तैयार करने में क़रीब 150 वर्ष लगे और लगभग 7000 मज़दूरों ने लगातार इस पर काम किया। पच्‍चीकारी की दृष्टि से कैलाश मन्दिर अद्भुत है। मंदिर एलोरा की गुफ़ा संख्या 16 में स्थित है।
शोधकर्ता अनुमान लगाते हैं कि मंदिर बनाने के दौरान करीब 4,00,000 टन पत्थर काट कर हटाया गया होगा। इतना पत्थर काटना उस समय आश्चर्यचकित करती हैं। मंदिर की दीवारों पर उत्कीर्ण लेख बहुत पुराना हो चुका है एवं लिखी गयी भाषा को कोई पढ़ नहीं पाया है।


कैलाश मंदिर को हिमालय के कैलाश का रूप देने में एलोरा के वास्तुकारों ने कुछ कमी नहीं की। यूनेस्को द्वारा 1983 से ‘विश्‍व विरासत स्‍थल’ घोषित किए जाने के बाद अजंता और एलोरा की तस्‍वीरें और शिल्‍पकला बौद्ध धार्मिक कला के उत्‍कृष्‍ट नमूने माने गए हैं और इनका भारत में कला के विकास पर गहरा प्रभाव है।
गुफ़ाएँ – एलोरा में तीन प्रकार की गुफ़ाएँ हैं- एलोरा में तीन प्रकार की गुफ़ाएँ हैं !
 1)महायानी बौद्ध गुफ़ाएँ 
 2) पौराणिक हिंदू गुफ़ाएँ 
3) दिगंबर जैन गुफ़ाएँ

इन गुफ़ाओं में केवल एक गुफ़ा 12 मंजिली है, जिसे ‘कैलाश मंदिर’ कहा जाता है। मंदिर का निर्माण राष्ट्रकूट शासक कृष्ण प्रथम (756AD-773AD) ने करवया था। यह गुफ़ा शिल्प कला का अद्भुत नमूना है। एक ही चट्टान में काट कर बनाए गए विशाल मंदिर की प्रत्येक मूर्ति का शिल्प उच्च कोटि का है। इन गुफ़ाओं से एक किलोमीटर की दूरी पर एलोरा गाँव है। इसी गाँव के नाम पर ये ‘एलोरा गुफ़ाएँ’ कहलाती हैं।


कैलाश मंदिर को छोड़कर शेष मंदिर 600-750 ई. के आस-पास बने बताए जाते हैं। एलोरा की मूर्तिकला अनुपम है। गुप्त काल के बाद इतना भव्य निर्माण और किसी काल खंड में नहीं हुआ। एलोरा की गुफ़ाओं का सीधा संबंध बौद्ध, हिन्दू और जैन धर्म से है, इसलिए इन धर्मों के अनुयायियों की यहाँ भीड़ लगी रहती है।
इसके आलावा देशी-विदेशी पर्यटकों की भी यहाँ पूरे साल चहल-पहल रहती है। इन गुफ़ाओं में इतना आकर्षण और कौशल है कि यहाँ आने वाले सभी पर्यटक इन्हें देखकर चकित हो उठते हैं। पूरा क्षेत्र बहुत खुला और शांत है। एलोरा के पास ही ‘घृष्णेश्वर महादेव’ का मंदिर है।


एलोरा की गुफ़ा-16 सबसे बड़ी गुफा है, जिसमें सबसे ज़्यादा खुदाई कार्य किया गया है। यहाँ के कैलाश मंदिर में विशाल और भव्‍य नक़्क़ाशी है, जो कि कैलाश के स्‍वामी भगवान शिव को समर्पित है। कैलाश मंदिर ‘विरुपाक्ष मन्दिर’ से प्रेरित होकर राष्ट्रकूट वंश के शासन के दौरान बनाया गया था। अन्‍य गुफाओं की तरह इसमें भी प्रवेश द्धार, मंडप तथा मूर्तियाँ हैं।
यह मंदिर 276 फीट लंबा, 154 फीट चौड़ा है. इसका निर्माण ऊपर से नीचे की ओर किया गया है। इस पर्वत खंड को भीतर बाहर से काट-काट कर 90 फुट ऊंचा मंदिर गढ़ा गया है। इस मंदिर के बारे में समीक्षकों का अनुमान है, इसे एथेंस का प्रसिद्ध मंदिर ‘पार्थेनन’ इसके आयाम में समूचा समा सकता है और इसकी ऊंचाई पार्थेनन से कम से कम ड्योढ़ी है।

Saransh Sagar


सारांश सागर

सारांश सागर द्वारा प्रकाशित किया गया

अनुभव को सारांश में बताकर स्वयं प्रेरित होकर सबको प्रेरित करना चाहता हूँ !             


No comments

Powered by Blogger.