ज्ञानसागर ब्लॉग में आपका हार्दिक अभिनंदन है !! किसी भी सुझाव,विचार,विमर्श के लिए संपर्क करे 8802939520 ! अपने व्यापार य सर्विस की वेबसाइट बनवाने हेतु संपर्क करे !

Header Ads



रेप , ब्लात्कार य दुष्कर्म जैसी घटनायें होने के क्या क्या कारण है ? | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

 रेप , ब्लात्कार य दुष्कर्म जैसी घटनायें होने के क्या क्या कारण है ? | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

विषय संवेदनशील है पर इस समय कोई भी व्यक्ति इससे अपरिचित नही रह गया है इसीलिए सभी मित्रों,अग्रज व अनुज के विचार आमंत्रित है !!! रेप , ब्लात्कार य दुष्कर्म जैसी घटनायें होने के क्या क्या कारण है ? वो कौन से तत्व है जो इन अपराधों को जन्म देते है !!

 रेप , ब्लात्कार य दुष्कर्म जैसी घटनायें होने के क्या क्या कारण है ? 

आप अपने विचार कमेंट बॉक्स में रखे बाकि मेरे अनुभव और जानकारी के अनुसार कुछ तत्व निम्न की सूचि आपको बताता हूँ !! लेकिन उससे पहले ये आपको जरूर बता दूं कि 
ऐसे अपराधों में शिक्षा का पर्याप्त न होना काफी हद तक जिम्मेदार है , सारी समस्या की जड़ अंततः अज्ञानता ही है पर इस अज्ञानता को यदि खण्ड खण्ड में विभक्त किया जाए तो आप जानेंगे कि इसके काफी तत्व है जो महत्वपूर्ण है जिसे बदला नही जा सकता , जो होकर रहेगा !! जैसे कि आवेग !!

खैर बिंदुओं में तत्व को बताता हूँ

● टीवी सीरियल में चलने वाले आपत्तिजनक प्रचार। ,टीवी पर चलने वाले आपत्तिजनक प्रचार,फ़िल्म के आपत्तिजनक दृश्य,इंटरनेट जैसे यूट्यूब व अन्य वेबसाइट पर मिलने वाले अश्लील दृश्यों की भरमार व प्रतिष्ठित एप्प जैसे नेटफ्लिक्स व amazon प्राइम के सब्सक्रिप्शन आदि !!

● अखबार,सड़को पर अश्लील दृश्य वाले होर्डिंग व आकर्षित करती अर्ध नग्न तस्वीरे !!

● स्वीटी सुपारी से शुरू होने मादक पदार्थो से तम्बाकू,सिगरेट,चरस,गांजा,अफिल्म,शराब,ताड़ी आदि का सेवन करना !!

●अत्यधिक भोजन करना य भोजन की शुद्धता न होना य अच्छा स्वस्थ भोजन न करना और नियमित व्यायाम न करना जिसके कारण कामवेग का प्रबल होना और ऐसे दुष्कर्म कृत्यों को करने के लिये मजबूर करना !!

ये जो उप्पर बताई बातें है ये मेरी खुद की सोच व अनुभव है और अभी तक हुए अपराधों के जानकारी के कारण ये एक लेख लिखा है और अंत वाला विवेक के लिये जरूरी है ! हो सकता है उप्पर के तीनों बिंदुओं से सबका सामना होता हो लेकिन चौथा बिंदु जिसने अपना लिया , पिशाच विचार य बुरे विचार य गलत राह पर चलने के बाद व्यक्ति कहीं न कहीं अपने आप को सही रास्ते मे लेन की क्षमता अवश्य रखता है और यदि ये चौथा बिंदु गड़बड़ हो जाये तो व्यक्ति सामान्य परिस्थितियों में भी कई बार ऐसे दुष्कर्म करने की भूल कर बैठता है !! शुरुआत के 3 बिंदु काफी बड़ा हिस्सा है जो ऐसे दुष्कर्म करवाने में जिम्मेदार है लेकिन चौथा बिंदु यदि आपका सही हो तो हर स्थिति में आप ऐसे कृत्य करने से बच जाएंगे ! अनियमित भोजन और कुछ भी खाने की प्रवृत्ति के कारण आज य तो समाज बीमार हो गया है य तो मानसिक य शारीरिक !! आप सभी के विचार आमंत्रित है !!

Share In Whatsapp 

Saransh Sagar


सारांश सागर

सारांश सागर द्वारा प्रकाशित किया गया

अनुभव को सारांश में बताकर स्वयं प्रेरित होकर सबको प्रेरित करना चाहता हूँ !             


No comments

Powered by Blogger.