कंगना रानावत का ऑफिस तोड़ना क्या सही था ? – पढ़े पूरी रिपोट | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

 

कंगना रानावत का ऑफिस तोड़ना क्या सही था ? - पढ़े पूरी रिपोट | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

जी नही !! आज १० सितम्बर २०२० को जब ये न्यूज़ सुबह देखा तो हैरान था कि ये कैसे संभव है पर जब थोड़े दिन पहले की न्यूज़ देखी तो पता चला शिवसेना के वरिष्ठ और लोकप्रिय नेता संजय राउत,उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे के सुशांत केस में संलिप्त और ड्रग और नशे व्यापारियों और दाउद गैंग के सम्मिलित य उनका साथ होने के कारण पूरा बॉलीवुड भीष्म पितामह की तरह द्रौपदी का जैसे चीर हरण होता है उस वक्त मौन थे वैसे ही आज तमाम बड़े बड़े सितारे तारे और जिन्हें हमारे भारतीय जनता हीरो और हीरोइन मानते है वो सब शांत और चुप है सिवा कुछ लोगो के जैसे अनुपम खेर का नाम इसमें प्रमुख है और तमाम छोटे बड़े कलाकार लेकिन उनकी संख्या कम ही है !!

 

कंगना रानावत का ऑफिस तोड़ना क्या सही था ? - पढ़े पूरी रिपोट | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

 

अब बात करते है ऑफिस तोड़ना क्या सही था ??
देखिये इस तरह के फैसले लेना एक प्रकार का दुश्मनी से लिया गया फैसला साफ साफ बतलाता है जिसमे शिवसेना जिसे मै **शवसेना** कहना पसंद करूँगा क्योंकि शिव भगवान के नाम पर ये राक्षस वाली हरकत कर रहे है ! ये मानसिक दिवालियापन य पागलपन की एक सीमा तक पहुँच गये है मानो सरकार कोई समझदार योग्य पुरुष नही बल्कि गुंडे लोग चला रहे है अपने परिवार और कुछ लोगो के लिए ! एक प्रकार से मुंबई य महराष्ट्र हाईजैक हो रखा है जिसमे तमाम अवैध स्थलों,पार्क,फूठपाथ बाकि मुंबई और महराष्ट्र निवासी बेहतर जानते होंगे कि वहां की अभी वर्तमान समस्या कोरोना और मुंबई की बरसात से वहांके खराब होते हालात है से बचना होना चाहिए पर नहीं , महाराष्ट्र सरकार के आदेश पर जिस तरह bmc ने इस तरह का निंदनीय कार्य किया है उसको बॉम्बे हाई कोर्ट ने भी फटकर लगाई है ! हाईकोर्ट ने साफ कहा कि जिस तरह से अवैध निर्माण अगर बना है तो उसमे समय लगा है तो उस वक्त क्यों नही रोका गया और नोटिस भेजने के १ दिन यानि चौबीस घंटे बाद कैसे कोई उस ऑफिस का मालिक उसे सही तरीके से व्यवस्थित य अवैध निर्माण को सही कर पायेगा ! इस बारे में आप इस न्यूज़ वीडियो में देख सकते है !!

उसके बाद शर्मनाक हरकत हुयी ट्विटर पर जहाँ कंगना ने अश्लील और फिल्म से सम्बन्धित तस्वीर को दिखाकर उसपर निजी टिप्पणी की गयी लेकिन जिस तरह शाम को रिपब्लिक भारत के पत्रकार समेत ओला ड्राईवर को भी गिरफ्तार किया गया उसके बाद पूरे देश में ये खबर सुर्खियाँ बनकर वायरल होती रही जिसकी पूरी देश में बहुत ही निंदा हो रही है !! कंगना को लोगो का जो सपोर्ट मिला वो स्वाभाविक भी था क्योंकि इस तरह से अमानवीय हरकत शायद कभी पहले किसी सरकारी य इतने बड़े स्तर पर नहीं लिया गया ! लोगो ने जमकर उद्धव ठाकरे और संजय राउत समेत bmc को जमकर खरी खोटी सुनाई है !अब देखना ये है कि जनता का ये गुस्सा क्या सोशल मीडिया तक ही सीमित रहता है य ये सपोर्ट महराष्ट्र सरकार के नीवं को ऐसे ही उखाड़ फेंकेगा जैसे कंगना का दफ्तर तोड़ा गया है !!

कंगना रानावत ने इसके जवाब में बहुत ही कठोर भाषा का इस्तेमाल करते हुए ये साफ कह दिया कि समय अभी तुम्हरा चल रहा है और ये समय समय की बात है ! वो समय जल्द आएगा जब तुम्हरा घमंड टूटेगा ! असल में बालासाहेब ठाकरे के नाम पर एक ऐसी छवि लोगो में बनाई गयी थी कि वो हिंदूवादी लीडर थे पर इनके कुपुत्रो द्वारा ऐसे गुंडागर्दी देखकर ये लगता है मानो इन्हें जनता और सरकार का नेत्रत्व पसंद नही आया !! खैर मेरी सलाह है महाराष्ट्र सरकार से कि माफ़ी मांगकर जो भी जांच में सहयोग देना चाहिए उसका सहयोग दे और जो भी रिया के साथ ड्रग और सुशांत की हत्या में शामिल है उसको पकड़वाने में मदद करे खैर इतनी इमानदारी होती तो सीबीआई की नौबत ही नही आती फिर भी एक गुजारिश जरुर है कि एक अंतिम मौका है माफ़ी मांगने का !! गाली का प्रयोग कर लिया और गुंडागर्दी भी दिखा दी और अगर अब कुछ उल्टा सीधा किया तो शायद जनता चुप नही रहेगी और उसे अपने हाथ में वो सब करना होगा जो धर्म के लिए सही होगा !! अधर्म के खिलाफ कानून के डर से जनता चुप नही रहेगी क्योंकि सबको मालूम चल रहा है कि सही क्या है और गलत क्या है और बेटे और अपने आका और ड्रग और नशेड़ी गैंग को बचाने के लिए ये सभी हरकते काम नही आने वाली !! कंगना और सुशांत को न्याय दिलाने के लिए मै साथ खड़ा हूँ और क्या आप भी इनके साथ है ?? अपना जवाब दिलखोलकर दे !!
ये लेख – समाज के विचार पर आधारित है !मैंने बस शब्द दिए है विचार अमर है! कोई शव सेना य किसीको कष्ट हुआ है तो १३५ करोड़ या जो भी इस लेख से सहमत है उनसे बात करे !! यहाँ टिका टिप्पणी करके बुरा भला कहने की जरूरत नही !! ध्यान रहे !! ये शरीर एक वक्त का साथी है इसीलिए सत्कर्म करके अच्छे सम्बन्ध बनाकर सुखपूर्वक जिए न कि ऐसे दुष्टों की तरह जीते जी बद्दुआ ले जैसे संजय राउत और उद्धव ठाकरे सरकार के फैसले ने लिए है !
सिंह लग्नफल

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.