Yahi Raat Antim Yahi Raat Baki Lyrics In Hindi | यही रात अंतिम यही रात बाकी | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

Yahi Raat Antim Yahi Raat Baki Lyrics In Hindi | यही रात अंतिम यही रात बाकी | Gyansagar ( ज्ञानसागर )

Yahi raat antim yahi raat bhari
Bas ek raat ki ab kahani hai sari
Yahi raat antim yahi raat bhari
Nahi bandhu bandhav na koi sahayak
Akela hai lanka me lanka ka nayak
Sabhi ratna bahumulya ran me gavaye
Lage ghav aise ki bhar bhi na paaye
Dashanan ishi soch me jagta hai
Ye jo ho raha hai uska parinam kya hai
Ye baaji abhi tak na jeeti na hari
Yahi raat antim yahi raat bhari
Yahi raat antim yahi raat bhari
Ho bhagvan manav to samjhega itna
Ki manav ke jeevan me sangharsh kitna
Vijaya antatah dharm veero ki hoti
Par itna sahaj bhi nahi hai ye moti
Bahut ho chuki youdh me vyarth hani
Pahuch jaye parinaam tak ab kahani
Vachan purn ho devata hum sukhari
Yahi raat antim yahi raat bhari
Yahi raat antim yahi raat bhari
Samar me sada ek hi paksh jeeta
Jay hogi mandodari ya ki sita
kisi maang se uski lali mitegi
Koi ek hi kal suhagan rahegi
Bhala dharama se paap kab tak ladega
Ya jhukana padega ya mitana padega
Vicharo me mandodari hai bechari
Yahi raat antim yahi raat bhari
Yahi raat antim yahi raat bhari
Ye ek raat mano yugo se badi hai
Ye sita ke dheeraj ki antim kadi hai
Pratiksha ka vish aur kitana piyegi
Bina pran ke deh kaise jiyegi
Kahe ram ram ab ram aa to ram bhi jaao
Dikhayo darash ab to na itna rulao
Ki ro ro ke mar jaaye sita tumhari
Yahi raat antim yahi raat bhari
Yahi raat antim yahi raat bhari
Bas ek raat ki ab kahani hai sari
Yahi raat antim yahi raat bhari
Yahi raat antim yahi raat bhari

यही रात अंतिम यही रात भारी,
बस एक रात की अब कहानी है सारी,
यही रात अंतिम यहीं रात भारी।।
नहीं बंधू बांधव ना कोई सहायक,
अकेला है लंका में लंका का नायक,
सभी रत्न बहुमूल्य रण में गंवाए,
लगे घाव ऐसे की भर भी ना पाए,
दशानन इसी सोच में जागता है,
की जो हो रहा उसका परिणाम क्या है,
ये बाजी अभी तक ना जीती ना हारी,
यही रात अंतिम यहीं रात भारी।।
वो भगवान मानव तो समझेगा इतना,
की मानव के जीवन में संघर्ष कितना,
विजय अंततः धर्म वीरों की होती,
पर इतना सहज भी नही है ये मोती,
बहुत हो चुकी युद्ध में व्यर्थ हानि,
पहुँच जाए परिणाम तक अब कहानी,
वचन पूर्ण हो देवता हो सुखारी,
यही रात अंतिम यहीं रात भारी।।
समर में सदा एक ही पक्ष जीता,
जय होगी मंदोदरी या के सीता,
किसी मांग से उसकी लाली मिटेगी,
कोई एक ही कल सुहागन रहेगी,
भला धर्म से पाप कब तक लड़ेगा,
या झुकना पड़ेगा या मिटाना पड़ेगा,
विचारों में मंदोदरी है बेचारी,
यही रात अंतिम यहीं रात भारी।।
ये एक रात मानो यूगो से बड़ी है,
ये सीता के धीरज की अंतिम घड़ी है,
प्रतीक्षा का विष और कितना पिएगी,
बिना प्राण के देह कैसे जिएगी,
कहे राम राम अब तो राम आ भी जाओ,
दिखाओ दरश अब ना इतना रुलाओ,
की रो रो के मर जाए सीता तुम्हारी,
यही रात अंतिम यहीं रात भारी।।
यही रात अंतिम यही रात भारी,
बस एक रात की अब कहानी है सारी,
यही रात अंतिम यहीं रात भारी।।
स्वर – श्री रविंद्र जैन जी।

सिंह लग्नफल

Related Posts



Leave a Reply

Your email address will not be published.