कैसे अदा करूँ ईश्वर शुक्रिया तुम्हारा !!

दो माँ पर आधारित एक अनुपम रचना अवश्य पढ़े ! इसे पढ़कर आपको भी दो माँ के प्यार का अहसास अवश्य होगा


कैसे अदा करूँ ईश्वर शुक्रिया तुम्हारा !!
कैसे अदा करूँ ईश्वर
शुक्रिया तुम्हारा,
है मेरी किस्मत में तुमने
जो सौभाग्य लिखा,
कहाँ मिलता है प्यार
एक माँ का भी बहुतों को,
तुमने मेरी किस्मत मे
दो मांओं का प्यार लिखा,
है दिया जन्म एक माँ ने
बन देवकी-माता जिसको,
पाला है दूजी ने
यशोमति-मैया की तरह उसको,
हूँ आभारी मैं
ईश्वर तुम्हारी,
श्री कृष्ण सा भाग्य मुझको मिला,
कैसे अदा करूँ शुक्रिया तुम्हारा
है मेरी किस्मत मे तुमने
जो संयोग लिखा,
एक ने सींचा अपने रक्त से मुझको
दूजी ने मुझमे श्वास भरा,
दी किलकारियाँ एक माँ ने मुझे
दूजी ने मेरे शब्दों को गढ़ा,
है मिला रूप जन्मदात्री से
पालंहारिनी ने चित-स्वरूपा किया,
कैसे अदा करूँ ईश्वर शुक्रिया तुम्हारा
जो तुमने मेरा अहोभाग्य लिखा,
हूँ भाग्यशाली दुनिया में सबसे
कि, मुझे दो मांओं का प्यार मिला
मुझे दो मांओं का प्यार मिला।।
कवियत्री -प्रियंका रत्न  जी

No comments

Powered by Blogger.